World Cup 2019: सेमीफाइनल्स की रेस से बाहर हुईं ये 2 टीम, अब 8 टीमों के बीच है जंग

नई दिल्ली, जेएनएन। ICC Cricket World Cup 2019: पाकिस्तान और साउथ अफ्रीका के बीच लंदन के लॉर्ड्स में वर्ल्ड कप 2019 का 30वां मुकाबला खेला गया। इस मुकाबले में पाकिस्तान ने बाजी मार ली। इसी के साथ दो टीमें वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल की रेस से बाहर हो गईं। इनमें एक टीम का नाम अफगानिस्तान है जो 6 मुकाबलों में एक भी मैच नहीं जीत पाई है। जबकि दूसरी टीम साउथ अफ्रीका जैसी मजबूत टीम है जो इस टूर्नामेंट में हर बार चोकर साबित होती है। 
वर्ल्ड कप के 30 मैच होने के बाद टूर्नामेंट की अंकतालिका का हाल बड़ा दिलचस्प हो गया है। न्यूजीलैंड 6 मैचों में 11 अंकों के साथ टॉप पर है वहीं, दूसरे नंबर पर 10 अंकों के साथ ऑस्ट्रेलिया है, जिसने 6 मैचों में से 5 मैच जीते हैं। वर्ल्ड कप के 12वें सीजन में टीम इंडिया 9 अंकों के साथ तीसरे जबकि वर्ल्ड कप 2019 की मेजबान टीम इंग्लैंड 8 अंकों के साथ चौथे पायदान पर है।

वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल की रेस से बाहर होने वाली टीमों की बात करें तो इसमें अफगानिस्तान की टीम है, जिसके अंकों का अभी खाता नहीं खुल पाया है। 6 मैचों में लगातार 6 हार झेलने वाली अफगानिस्तान की युवा टीम शुरुआत से ही 10वें नंबर पर है। इस तरह ये टीम वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल की रेस से पूरी तरह बाहर हो गई है। 

अफगानिस्तान के बाद दूसरे नंबर पर साउथ अफ्रीका है, जिसने 7 में से 5 मुकाबले हारे हैं, जबकि सिर्फ एक मैच में जीत मिली है साथ ही एक मैच बारिश की भेंट चढ़ा है। इस तरह नेगेटिव नेट रनरेट के साथ साउथ अफ्रीका के तीन अंक हैं और वो इस वर्ल्ड कप की अंकतालिका में 9वें स्थान पर किसी कमजोर टीम की तरह खड़ी हुई है और सेमीफाइनल की रेस से पूरी तरह बाहर हो गई है। 

मध्यप्रदेश / डंपर से टकराकर कार में लगी आग; उसमें सवार थाना प्रभारी की जलकर मौत

राजगढ़। जिले के बोड़ा थाना क्षेत्र में रविवार दोपहर कार और डंपर की भिड़ंत हो गई। कार में सवार लीमाचौहान थाने के प्रभारी अशोक तिवारी की जलकर मौत हो गई। अशोक अपनी बेटी की सगाई करके वापस लौट रहे थे। कार में 2 अन्य लोगो के होने की बात भी सामने आई है, लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

जिले के बोड़ा-कुरावर रोड पर पनवाड़ी-कंडारा कोठरी के बीच डंपर और कार के बीच आमने-सामने की भिडंत के बाद कार में आग लग गई। घटना के बाद डम्पर का चालक मौके से फरार हो गया।
सूचना मिलते ही राजगढ़ एसपी प्रदीप शर्मा व अन्य अफसर मौके पर पहुंचे।

बेटी का सगाई के बाद लौट रहे थे ड्यूटी पर

राजगढ़ जिले के लीमाचौहान थाने के प्रभारी सब इंस्पेक्टर अशोक तिवारी का घर भोपाल में है। कुछ दिन पहले छुट्टी लेकर बेटी की सगाई करने इलाहाबाद गए थे। इलाहाबाद से वह वापस अपने घर भोपाल लौटे और रविवार सुबह वापस ड्यूटी पर जा रहे थे। नरसिंहगढ़ के पास वह हादसे का शिकार हो गए।

मौसम / 20 राज्यों में पहुंचा मानसून, महाराष्ट्र, केरल, गोवा में झमाझम बारिश, 9 को अभी भी इंतजार

नई दिल्ली .10 दिन देरी से चल रहे मानसून ने अब रफ्तार पकड़ ली है। शनिवार को मानसून ने तेलंगाना, ओडिशा, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, पूर्वी यूपी में भी दस्तक दे दी। वहीं, महाराष्ट्र, केरल, गोवा में झमाझम बारिश हो रही है। कर्नाटक, गुजरात में भी हल्की बरसात हुई। पश्चिम बंगाल और नॉर्थ-ईस्ट में मानसून पहले से ही सक्रिय है। इसके साथ देश के 20 राज्यों में मानसून पहंुच गया है। हालांकि 9 राज्यों में लोगों को अभी मानसून का इंतजार है।

मौसम विभाग के कहना है कि उत्तर पश्चिम राजस्थान से ट्रफ लाइन बंगाल की खाड़ी की ओर तेजी से आगे बढ़ रही है। इससे राजस्थान, उत्तर-प्रदेश, बिहार, झारखंड और बंगाल तक निम्न दबाव के कारण अच्छी बारिश के अासार हैं।
वहीं, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में अगले 24 घंटे में 40 से 60 किमी की रफ्तार से हवा चलने और भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

वहीं, मौसम विभाग ने रविवार को पूर्वी राजस्थान, उत्तराखंड, पश्चिमी यूपी, दिल्ली, चंडीगढ़, हरियाणा, पंजाब और जम्मू-कश्मीर में बिजली चमकने के साथ आंधी के आसार भी जताए हैं। यहां अभी तक मानसून नहीं पहुंचा है।
अब तक देश में 39% कम बारिश: मानसून में देरी के कारण शनिवार तक देश भर में सामान्य से 39% बारिश कम हुई है।

बिहार और पूर्वी यूपी में पहुंचा मानसून, तमिलनाडु से अभी भी दूर; मध्यप्रदेश में बारिश का अलर्ट

राहत: लू की मार झेल रहे बिहार के 5 शहरों में बारिश :लू की मार झेल रहे बिहार में मानसून ने दस्तक दे दी है। पटना में शनिवार को तेज बारिश हुई, जिससे कई इलाकों में तीन फीट तक पानी भर गया। इसके अलावा भागलपुर, गया, मुजफ्फरपुर और पूर्णिया जिले में भी तेज बारिश हुई। राज्य में लू से 300 से ज्यादा लोगों की जान गई है।

सौगात: पूर्वी यूपी में बारिश, पर पश्चिम में गर्मी बरकरार :मानसून बिहार के साथ ही पूर्वी यूपी भी पहुंच गया है। शनिवार को यहां तेज बारिश हुई, जिससे कई जिलों में लोगों को गर्मी से राहत मिली। हालांकि पश्चिम और मध्य यूपी में गर्मी बरकरार है। वहीं, गुजरात के वड़ोदरा, अहमदाबाद में भी बारिश हुई।

इंतजार: सरकार ने बारिश के लिए चेन्नई में यज्ञ कराया :यहां बारिश के लिए अन्नाद्रमुक सरकार ने यज्ञ करावाया। वहीं, राज्य में पीने की पानी की किल्लत बरकरार है। कई इलाकों में पानी के लिए प्रदर्शन हुआ। सरकार ने 1 करोड़ लीटर पानी ट्रेन से चेन्नई पहुंचाने की बात कही है। हालांकि शनिवार को कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई।

चेन्नई के चारों जलाशय सूखे :तस्वीर चेन्नई के पुझल जलाशय की है, जो सूख चुका है। शहर को पानी देने वाले बाकी तीन जलाशय में भी पानी नहीं है।

,

आज से 30 साल पहले जब हुआ था पूरा विपक्ष एकमत मामला था बोफोर्स तोप की दलाली का

सांसदों ने दिया था इस्तीफ

नई दिल्ली, 

आज से 30 साल पहले एक तोप ने लोकसभा में पूरे विपक्ष को एकजुट कर दिया था. वह भी तब, जब विपक्ष का कोई नेता नहीं था. जैसा आज है. अघोषित रूप से विपक्ष का नेता सत्ता पक्ष का एक मंत्री बन गया था. उसी के बाद विपक्ष के 110 सांसदों में से 106 सासंदों ने इस्तीफा दे दिया था. भारतीय राजनीति के इतिहास में ऐसे मौके में बेहद कम होंगे जब विपक्ष ने ऐसी मजबूत एकता दिखाई .

बात 30 साल पहले की है, यानी 24 जून 1989 को जब एक तोप ने लोकसभा में पूरे विपक्ष को एकजुट कर दिया था. वह भी तब जब विपक्ष का कोई नेता नहीं था. सत्ता पक्ष का एक मंत्री अघोषित रूप से विपक्ष का नेता बन गया था. उसी के बाद विपक्ष के 110 सांसदों में से 106 ने इस्तीफा दे दिया था. यह दिन भारतीय राजनीति और खास तौर पर कांग्रेस के लिए भूचाल लाने वाला साबित हुआ. मामला 1437 करोड़ रुपए के बोफोर्स घोटाले का था. जिसमें स्वीडन की कंपनी एबी बोफोर्स और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सरकार के साथ 155 मिमी के 400 हॉविट्जर तोपों का सौदा हुआ था.

1986 में हुए बोफोर्स डील में दलाली और भ्रष्टाचार का खुलासा 1987 में स्वीडिश रेडियो ने किया. आरोप था कि कंपनी ने सौदे के लिए भारत के नेताओं और रक्षा विभाग के अधिकारी को 60 करोड़ रुपए घूस दिए हैं. अपनी ईमानदार छवि से रत्तीभर भी समझौता न करने वाले तत्कालीन रक्षामंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने इस स्कैंडल को सार्वजानिक कर दिया था. इसके बाद विपक्ष की एकजुटता से 404 सीटें जीतकर आई कांग्रेस की पूर्ण बहुमत वाली सरकार की जड़ें तक हिल गई थीं.

उस समय, 514 सीटों वाली लोकसभा में विपक्ष के केवल 110 सांसद थे, इनमें विशेष रूप से बीजेपी के (मात्र) 2, जनता पार्टी के 10, वामपंथी 22, तेलगू देशम 30, एआईएडीएमके के 12 प्रमुख थे. 106 विपक्षी सांसदों ने इस्तीफा दिया था. यहां विपक्ष की मजबूती के साथ ही सत्ता की कमजोरी भी निकल कर सामने आई. क्योंकि विपक्ष की एकता के हीरो वीपी सिंह थे, जो सत्ता से निकल कर सामने आए थे. तब भाजपा के नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि हम तोप को लेकर हुए भ्रष्टाचार का भरपूर विरोध करेंगे.

1989 में ही चुनाव होने वाले थे. राजीव गांधी की कांग्रेस सरकार के दोबारा चुनाव जीतने की पूरी उम्मीद थी, लेकिन अचानक से समय बदला, राजनीति बदल गई. लेकिन विपक्ष के एकसाथ आने से पासा पलट गया. उस समय विपक्ष के पास कोई नेता नहीं था, लेकिन सबने मिलकर एकता दिखाई और सत्ता पक्ष की नाक में दम कर दिया था.  

नेहरू और इंदिरा के समय भी नहीं था विपक्ष के नेता  

24 जून 1989 की घटना छोड़ दे तो पिछले 70 वर्षों में कभी भी मजबूत विपक्ष नहीं बन सका. हमेशा कमजोर विपक्ष ही दिखाई पड़ा.आज भी देश में विपक्ष जैसी चीज नजर नहीं आती. 2014 के चुनावों के बाद नेता विपक्ष बनाने के लिए भी किसी दल के पास संख्या नहीं थी. विपक्ष के नेता के लिए जरूरी है कि किसी दल के पास कम से कम 10% (55 सांसद) हों. लेकिन कांग्रेस के सिर्फ 44 सांसद ही थे. जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में कभी कोई विपक्षी नेता नहीं रहा. क्योंकि कोई दल 10% की संख्या हासिल नहीं कर सका. इंदिरा गांधी के वक्त भी लंबे समय तक संसद में कोई विपक्षी-नेता नहीं रहा.

राजस्थान के बाड़मेर में रामकथा के दौरान आंधी तूफान की वजह से पंडाल गिरने से 14 लोंगो की मौत हो गई और करीब 50 लोग घायल हो गए है.


रामकथा पंडाल गिरने से 14 की मौतकई घायलों की हालत गंभीर30 जून को समाप्त होनी थी रामकथा

जयपुर: राजस्थान के बाड़मेर में रामकथा के दौरान तेज हवाओं और बारिश की वजह से पंडाल गिरने की घटना से चंद मिनट पहले का एक वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में राम कथावाचक मुरलीधर महाराज यह कहते हुए दिख रहें हैं कि हवा तेज है और कथा को बीच में ही रोकना पड़ेगा. वे मंच से ही लोगों से जल्द से जल्द पंडाल खाली करने के लिए कहते हैं. इसके बाद वे खुद भी जल्दी ही मंच छोड़कर चले जाते हैं. उनके इतना कहने के चंद पलों में ही पंडाल गिरने लगता है लोगों के बीच भगदड़ मच जाती है. 

जयपुर से लगभग 500 किलोमीटर दूर बाड़मेर जिले के जसोल के एक स्कूल ग्राउंड में राम कथा के लिए लोग इकट्ठा हुए थे. इस कार्यक्रम की लाइव रिकॉर्डिंग चल रही थी. तभी आंधी और तूफान की वजह से पंडाल गिर गया और कई लोग इसके नीचे दब गए. इनमें से 14 लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 50 लोग घायल हो गए.  घायलों को पास के अस्पतालों में ले जाया गया, जहां उनमें से कई की हालत गंभीर बनी हुई है.

यातायात बाधित करने वाले कोर्टरोड़ के दुकानदारों को नोटिस, कोर्ट में भरनाा होगा जुर्माना

शिवपुरी। सड़क पर सामान रखकर यातायात वाधित करने वाले नगर के नामचीन दुकानदारों को रविवार की शाम यातायात पुलिस ने नोटिस थमा दिए हैं। सूबेदार ने बताया कि कोर्ट रोड पर सड़क पर सामान रखने वाले सात दुकानदारों, जबकि एबी रोड माधव चोक पर मधुरम स्वीट, प्रेम स्वीट सहित कुछ अन्य को नोटिस दिए गए। इसमें उल्लेखित तिथि को उक्त सभी दुकानदारों को कोर्ट में पेश होकर जुर्माना भरना होगा।

प्रभारी मंत्री तोमर आज शिवपुरी में

शिवपुरी। प्रभारी मंत्री प्रघुमन सिंह तोमर 24 जून को शिवपुरी आएंगे और इस दौरान वे आमजन से मुलाकात करेंगे और मड़ीखेड़ा पेयजल योजना को लेकर अधिकारियों से चर्चा करेंगे। टंकियों का निरीक्षण भी करेंगे। इसके अलावा वे अन्य कार्यक्रमों में भी भाग लेगे।

पत्रकार चक्रेश जैन की हत्या को लेकर मप्र श्रमजीवी पत्रकार संघ आज सौंपेगा ज्ञापन

 June 23, 2019Durgesh Gupta  0 Comments

करैरा के पत्रकार संजय गुप्ता के मामले में भी की जाएगी कार्यवाही की मांग

शिवपुरी-मध्यप्रदेश के छतरपुर के शाहगढ़ में हुई पत्रकार चक्रेश जैन की हत्या के मामले को लेकर पूरे प्रदेश में पत्रकारों की सुरक्षा पर सवाल खड़े होने लगे है। ऐसे में पत्रकारों को शीघ्र पत्रकार सुरक्षा कानून मिले इसे लेकर पत्रकारों संगठनों द्वारा विगत लंबे समय से मांग की जा रही है।

इसी क्रम में पत्रकार चक्रेश जैन की हत्या एवं करैरा के पत्रकार संजय गुप्ता के साथ करैरा बीएमओ की पत्नि द्वारा न्यूज कवरेज करते समय अभद्रता एवं मोबाईल छीनने की हुई घटना के विरोध में 24 जून सोमवार को दोप.12 बजे मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ जिला शिवपुरी के तत्वाधान में मुख्यमंत्री के नाम एवं पुलिस अधीक्षक के नाम ज्ञापन सौंपा जाएगा।

मप्र श्रमजीवी पत्रकार संघ के जिलाध्यक्ष राजू यादव (ग्वाल)ने बताया कि पत्रकार सुरक्षा कानून, पत्रकारों के हितों की रक्षा को लेकर संपूर्ण प्रदेश भर में मप्र श्रमजीवी पत्रकार संघ द्वारा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर पत्रकार सुरक्षा कानून अविलंब रूप से लागू किए जाने की मांग की जा रही है।

इसी क्रम में जिला मुख्यालय शिवपुरी पर 24 जून को दोप.12 बजे पुलिस अधीक्षक शिवपुरी को करैरा में पत्रकार संजय गुप्ता के साथ हुई घटना के विरोध में एवं पत्रकार चक्रेश जैन की हत्या को लेकर मप्र श्रमजीवी पत्रका संघ द्वारा उचित कार्यवाही को लेकर ज्ञापन सौंपा जाएगा।

सभी पत्रकार साथियों से आग्रह है कि वह 24 जून को दोप.12 बजे पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर इस पत्रकार आन्दोलन को सफल बनाऐं और अधिक से अधिक संख्या में अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर पत्रकार संगठन शक्ति का प्रदर्शन करें।