जिले में पानी, उद्योग, सिंचाई, शिक्षा और स्वास्थ्य पर काम होना है: यादव


मुझे यहां की समस्याओं को समझना है। चुनाव के दौरान यहां पानी,सड़क,सीवर की शिकायतें लोगों से सुनने को मिली थीं। इसलिए इन सभी समस्याओं और चल रही योजनाओं की जानकारी के लिए मैं कलेक्टोरेट में 11 को बैठक लेने आ रहा हूं।

उन्होने कहा कि पूरे चुनाव में मोदी लहर थी। जनता ने मुझे भरपूर आर्शीर्वाद दिया। लोकल में जो मुद्दे थे उनमें शिवपुरी में पानी की समस्या थी। दूसरा यहां उद्योग नहीं है,तीसरा सिंचाई के लिए पर्याप्त साधन नहीं है।शिक्षा और स्वास्थ्य पर भी काम होना है। मैने अशोकनगर और गुना में कलेक्टोरेट में बैठक ली है। अब 11 को यहां भी बैठक लूंगा और अधिकारियों से योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी लेकर इनको जल्द पूरा कराऊंगा। नवनिर्वाचित सांसद डॉ के पी यादव पहली बार शिवपुरी आए हैं। इस दौरान कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी,पूर्व विधायक प्रहलाद भारती,जिलाध्यक्ष सुशील रघुवंशी,राजू बाथम,मुकेश सिंह चौहान और एडवोकेट अजय गौतम उनके साथ थे। 

कोलारस टीआई लाइन अटैच, पदभार ग़हण करते ही एसपी ने किया औचक निरीक्षण


शिवपुरी|पदभार संभालने के बाद पुलिस अधीक्षक शिवपुरी राजेश सिंह शनिवार को अचानक निरीक्षण करने के लिए कोलारस थाने पहुंच गए। एसपी को थाने पर तमाम खामियां मिलीं। इस वजह से एसपी ने कोलारस टीआई सुरेंद्र सिकरवार को तत्काल लाइन अटैच कर दिया है। थाने का प्रभार सब इंस्पेक्टर को सौंपा गया है। एसपी शिवपुरी शनिवार को कोलारस थाना का औचक निरीक्षण करने पहुंचे। एसपी राजेश सिंह ने बताया कि दर्ज प्रकरणों में विवेचना ठीक नहीं पाई गई। आपराधिक प्रकरण भी देरी से दर्ज किए जा रहे हैं। थाने का रिकार्ड भी ठीक नहीं था। अन्य खामियों को देखते हुए नगर निरीक्षक सुरेंद्र सिंह सिकरवार को पुलिस लाइन शिवपुरी अटैच कर दिया है।

कोलारस थाने में किसी यात्री बस को 2 घंटे खड़े रखने की बात सामने आ रही है। साथ ही बस स्टॉप के साथ भी मारपीट की चर्चाएं हैं। सुनने में आया है कि थाने की किसी स्टाफ को बस में जाना था, किसी मामले को लेकर कंडक्टर से विवाद हो गया और फिर वर्दी ने अपना रौद्र रूप धारण कर लिया। मामले की शिकायत आज तक पहुंच गई और शिवपुरी के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने मामला गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की है। लेकिन अधिकारी इस मामले को लेकर कुछ भी कहने को तैयार नहीं। बताया यह भी जा रहा है कि इसी मामले के चलते लाइन अटैच किया गया है। देर रात वीडियो सामने आया जिसमें बस थाना परिसर में खड़ी है और यात्री परेशान हैं। 

शिवपुरी – भीषण गर्मी में परेशान हो रहे है लोग, शासकीय कार्यालयों में नहीं मिलते अधिकारी और कर्मचारी

भीषण गर्मी में परेशान हो रहे है लोग

 शासकीय कार्यालयों में नहीं मिलते अधिकारी और कर्मचारी

 दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक रहते है ये हाल

 शिवपुरी -भीषण गर्मी है किंतु जिनको काम है वह शासकीय कार्यालयों में तो जायेगा जब वह ऑफिस में पहुँचता है तो उस ऑफिस में लगभग सभी अधिकारी और कर्मचारी वहाँ से नादरत मिलते है इस भीषण गर्मी में जिसको काम वह तो तपती दोपरिया में इस उम्मीद से पहुँचेगा का उनका काम होगा जब कोई नहीं मिलेगा तो उस बेचारे ग़रीब का क्या काम होगा।

 कोई भी ऑफिस हो सभी में यही हाल है

आज हमने नगर पालिका परिषद कार्यालय,जिला पंचायत कार्यालय, जनपद पंचायत कार्यालय में जाकर देखा तो वहाँ भी यही स्थिति मिली जो एक आध कर्मचारी मिले उन्होंने बताया कि साहब खाना खाने गए है वह बाबू गमी में गए है कोई कही गया है तो कोई छुट्टी पर है।

 गर्मी में अधिकरी कर्मचारी फ़रमाते है घरों में आराम,नागरिक होते है परेशान

पारा लगभग 44 डिग्री पर है तो  भी गर्मी भी है और इस गर्मी में सभी लोग बचने के उपाय कर रहे है और कोई जरूरतमंद अपने किसी काम से शासकीय कार्यालयों में जाता है तो वह निराश होकर लौटता है जिला मुख्यालय होने के कारण कुछ तो दूर दराज की तहसीलों किराया भाड़ा या अपना डीज़ल पेट्रोल ख़र्च कर आते है जब उन्हें ऑफिस में कोई नहीं मिलता और उनका कोई काम नही होता तो वह निराश हो जाते है और उन्हें उतना ही पैसा खर्च कर दोबारा उसी काम के लिए वापस आना होगा।

 ऑफ़िसों में तो एसी कूलर और पंखे भी लगे होते है

सरकारी खर्च पर लगभग सभी शासकीय कार्यालयों में पंखे से लेकर एसी तक लगे हुए है जिनका व्यय सरकारी ख़ज़ाने से ही होता है फिर भी बैठना नहीं चाहते।

 ऑफिस में कामकाज का समय भी है निर्धारित

कार्यालयों में कामकाज का समय निर्धारित होता है और इसी निर्धारित समय में लंच (खाना खाने) का समय भी निर्धारित होता है फिर जो कि लगभग 30 मिनट का होता है और अधिकारी कर्मचारी भोजनावकाश के नाम पर घण्टों नादरत रहते है।

 दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक रहते नादरत

कभी भी कोई भी किसी भी शासकीय कार्यालयों में दोपहर 1 बजे से 4 बजे के बीच में जाकर देख सकता है कि किस तरह के हालात इन सरकारी ऑफ़िसों में है।

शिवपुरी – जिले के शिक्षण संस्थानों में 17 जून से पूर्व अध्यापन कार्य प्रारंभ न किया जाए


जिले के शिक्षण संस्थानों में 17 जून से पूर्व अध्यापन कार्य प्रारंभ न किया जाएशिवपुरी, कलेक्टर शिवपुरी ने जिले के तापमान एवं विद्यार्थियों के स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुए समस्त शासकीय, अशासकीय, अर्द्धशासकीय, आईसीएससीई, केन्द्रीय विद्यालय शिक्षण संस्थाओं को निर्देश दिए है कि कोई भी शिक्षण संस्था में छात्र-छात्राओं का अध्यापन कार्य 17 जून 2019 से पूर्व प्रारंभ न किया जाए एवं शासन के निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाए।
कलेक्टर शिवपुरी ने निर्देश दिए है कि प्रदेश की समस्त शिक्षण संस्थाओं में 01 अप्रैल 2019 से प्रांरभ होने वाले शैक्षणिक सत्र 2019-20 हेतु ग्रीष्मकालीन अवकाश शिक्षकों के लिए 01 मई 2019 से 09 जून 2019 तक तथा विद्यार्थियों हेतु एक मई 2019 से 16 जून 2019 तक घोषित किया गया है। 
जिले में गर्मी एवं लू का प्रकोप चर्म पर होने से बच्चों के स्वास्थ्य को देखते हुए 17 जून 2019 से पूर्व कोई विद्यालय न खुलने संबंधी निर्देश प्रदोन किए गए है। ग्रीष्मकालीन में अधिकतम तापमान 42 डिग्री से अधिक होने से समय निर्धारित करने संबंधी निर्देश प्रदान