आधार कार्ड ने बर्बाद कर दिया इस युवक का जीवन, परेशान होकर सरकार से मांगी इच्छामृत्यु


ग्वालियर। वर्तमान में हमारे जीवन में आधार जरूरत बन चुका है। इसके बिना न तो स्कूल में एडमिशन होता है और न ही नौकर मिलती है। लेकिन यह आधार डीडी नगर निवासी रोहित सिंह तोमर के लिये परेशानी बन चुका है। आधार कार्ड में हुई गल्ती से उसकी जिंदगी थम सी गई है। अब उसे न तो नौकरी मिल रही है और न ही बैंक में खाता खुल पा रहा है। इसके लिए उसने जिम्मेदारों से गुहार भी लगाई, लेकिन हर जगह निराशा ही हाथ लगी।

रोहित के आधार कार्ड में फिंगर प्रिंट तो उसका ही है लेकिन नाम और जन्मतिथि उसके दादाजी की छपी हुई है। ऐसे में रोहित जहां भी अपना किसी काम के लिए आधार कार्ड लेकर जाता है उसे साफ-साफ मनाकर कह दिया जाता है कि पहले आधार में करेक्शन करावाओ। आधार की इस खामी के चलते रोहित का न तो बैंक में खाता खुल पा रहा है और न ही वह किसी जॉब के लिए आवेदन कर पा रहा है। कलेक्टर से लेकर सीएम हेल्पलाइन तक में अपनी समस्या की गुहार लगा चुके रोहित का कहना है कि मैं जिंदगी से त्रस्त हो चुका हूं अब तो इच्छामृत्यु की मांग करूंगा।

2012 में बनवाया था आधार

रोहित ने बताया हमारे गांव एंडोरी में 2012 में मैंने परिवार के साथ आधार कार्ड बनवाया था। जब कार्ड बनकर आया तो उसमें मेरे नाम की जगह दादाजी का नाम विध्याराम और जन्मतिथि 01-01-1926 लिखा आया। जबकि मेरी जन्मतिथि 02-02-2002 है। आधार कार्ड में फिंगर प्रिंट भी मेरे ही हैं। रोहित ने बताया कि दादाजी का देहांत भी हो चुका है।

दोस्तों से पिछड़ता जा रहा हूं
रोहित का कहना है कि मेरे सभी दोस्त आगे निकलते जा रहेे हैं पर मैं उनसे पिछड़ता जा रहा हूं। ये सब आधार कार्ड की गल्ती के कारण हो रहा है। रेलवे और नेवी की नौकरी का फॉर्म नहीं भर पाया और अब आर्मी की भर्ती में भी शामिल नहीं हो पाऊंगा।

पहली बार आया है ऐसा मामला
जहां तक मुझे पता है इस तरह का ये मामला पहला ही है। मुझे थोड़ा समय दीजिए मैं भोपाल में बात करके इस बारे में कुछ जानकारी दे पाऊंगा। संबंधित की समस्या का निदान कराया जाएगा।

दुल्हन अपहरण मामला : सीकर में शनिवार सुबह छह से शाम छह बजे तक बंद रहेगी इंटरनेट सेवा

सीकर।

राजस्थान के सीकर जिले में दुल्हन अपहरण मामला अब बढ़ता हुआ नजर आ रहा है। तमाम विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन सतर्क हो गया है और मामले में बड़ा फैसला लिया है। दुल्हन अपहरण मामले में राजपूत समाज के शनिवार को जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन करने की संभावना को देखते हुए जिला कलक्टर सीआर मीणा ने संभागीय आयुक्त को पत्र लिखा था। देर रात संभागीय आयुक्त ने इस प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है। गौरतलब है कि राजपूत समाज ने तीन दिन का अल्टीमेटम दिया था।
3 दिन बाद भी बरामदगी नहीं, मिला अल्टीमेटम
दुल्हन का अपहरण कर ले जाने के मामले में शुक्रवार को तीसरे दिन भी पुलिस के हाथ खाली ही रहे। दुल्हन बरामद नहीं हो पाई। इस मामले का मुख्य आरोपी भी अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है। उधर, राजपूत छात्रावास के बाहर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे समाज के लोगों ने पुलिस व प्रशासन को शनिवार को 11 बजे तक का अल्टीमेटम दिया है। धरने का नेतृत्व कर रहे उदयपुरवाटी विधायक राजेन्द्र सिंह गुढ़ा ने प्रशासन को भी चेतावनी दी है कि शनिवार सुबह 11 बजे बाद प्रदर्शन करेंगे।

उधर, मामले को देखते हुए सीकर में पुलिस की अतिरिक्त फोर्स को तैनात कर दिया गया है। जिले के अलावा बाहर से भी अतिरिक्त जाप्ता मंगवाया गया है। जिसमें क्यूआरटी, आरएसी के जवान भी शामिल है।

मामले में पुलिस ने अब तक पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है, लेकिन मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है। युवक अंकित और दुल्हन तक अभी पुलिस नहीं पहुंच पाई है।

फिलहाल इस मामलेे को खुद डीजीपी कपिल गर्ग मॉनिटर कर रहे हैं। उनका दावा है कि जल्द ही अपहरण करने वाले युवक को पकडकऱ दुल्हन को बरामद कर लिया जाएगा।

सिंध के पानी से आखिरकार शहर की पानी की टंकियां (ओवरहेड टैंक) भरना शुरू हो गईं हैं

शिवपुरी सिंध के पानी से आखिरकार शहर की पानी की टंकियां (ओवरहेड टैंक) भरना शुरू हो गईं हैं। गुरुवार की रात 8 बजे से टंकियाें में पानी चढ़ना शुरू हो गया था जो शुक्रवार की रात 8 बजे तक जारी रहा। शिवपुरी शहर के लिए मड़ीखेड़ा बांध से 24 घंटों में 1 करोड़ 60 लाख लीटर (16एमएलडी) पानी सप्लाई की बात अधिकारी कह रहे हैं। जबकि सिंध जलावर्धन योजना के प्लान के तहत शहर को 2 करोड़ 70 लाख लीटर (27 एमएलडी) पानी की जरूरत है। यानी अभी 11 एमएलडी पानी और चाहिए, तब जाकर शहर की करीब ढाई लाख आवादी के लिए पानी की पूर्ति हो पाएगी।

आेम कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर महेश मिश्रा ने बताया कि मड़ीखेड़ा बांध इंटेकबेल व सतनवाड़ा फिल्टर प्लांट पर तीन-तीन पंप हैं जिनमें से दो-दो पंप चालू रखे जाना हैं। दोनों पंपों से सप्लाई क्षमता 40 से 42 एमएलडी है। शुरूआत में एक ही पंप चालू कर 15-16 एमएलडी पानी सप्लाई किया जा रहा है। अब शहर के नए और पुराने सभी ओवरहेड टैंक सप्लाई लाइन से एक-एक कर जोड़े जाकर टेस्टिंग का सिलसिला शुरू हो गया है। सभी टैंक भरकर सप्लाई चालू होगी, तब जरूरत अनुसार 

गांधी पार्क व चीलौद टंकी की पिछले साल टेस्टिंग हो जाने से 24 घंटे सप्लाई जारी, तीन संपवेल करौंदी, हाथीखाना व कलेक्टोरेट भरे जा रहे 

मोतीबाबा टंकी की पुरानी मुख्य लाइन डैमेज, आज टेस्टिंग होगी 

फिजीकल क्षेत्र स्थित मोतीबाबा की पुरानी टंकी की शुक्रवार को टेस्टिंग नहीं हो सकी। सीएमओ केके पटेरिया ने बताया कि टंकी की पुरानी सप्लाई लाइन डैमेज हो गई। खुदाई शुरू करा दी है। लाइन को ठीक कराकर शनिवार को टेस्टिंग कर टंकी को भरना शुरू करा देंगे। जिससे क्षेत्र में नल जल सप्लाई शुरू हो सके। अभी तह यह टंकी बाणगंगा फिल्टर प्लांट से भरी जाती थी। 

27 एमएलडी पानी शिवपुरी शहरवािसयों को मिलना शुरू हो जाएगा 

जानकारी के अनुसार गुरुवार की रात गांधी पार्क और चीलौद की टंकी में सबसे पहले भरना शुरू किया है। दोनाें टंकियों की पिछले साल ही टेस्टिंग हो चुकी है। दोनों टंकियों से पुरानी सप्लाई से घर-घर सप्लाई भी जारी है। इसलिए दोनों टंकियों में 24 घंटे पानी चढ़ाया जाता रहा। वहीं करौंदी, कलेक्टोरेट और हाथाखाना चौपड़ा संपवेल में मुख्य सप्लाई लाइन से 24 घंटे पानी छोड़ा जा रहा है। तीनों संपवेल से संबंधित क्षेत्र में लोगों के घरों तक पानी दिया जा रहा है। 

दो नए और एक पुराने ओवरहेड टैंक की टेस्टिंग सफल, सप्लाई दी जा सकेगी 

नौहरीकला और कलेक्टोरेट के पीछे नए ओवरहेड टैंक के साथ सब्जी मंडी कोर्ट रोड स्थित पुराने ओवरहेड टैंक को सिंध सप्लाई लाइन से जोड़कर टेस्टिंग की। टंकियों को आधा भरकर खाली किया। टेस्टिंग सफल रहने पर अब तीनों टंकियों को भरकर सप्लाई दी जा सकेगी। वहीं ग्वालियर बायपास पर हाईडेंट से गुुरुवार की शाम 7.30 बजे से छोटे-बड़े टैंकरों को भरना शुरू कर दिया है। टैंकरों से शहर के प्रभावित क्षेत्रों में पानी का परिवहन कर लोगों को उपलब्ध कराया जा रहा है। 

मैंने छह महीने की मोहलत मांगी थी, साढ़े तीन माह में टंकियों तक पानी पहुंचा: सिंधिया 

छत्री परिसर स्थित बॉम्बे कोठी पर शुक्रवार की दोपहर सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिंध जलावर्धन योजना की शुरूआत से लेकर पानी पहुंचने तक की स्थिति के बारे में बताया। साल 2008 में योजना स्वीकृत हुई। भाजपा शासनकाल में योजना को पलीता लगाया गया। साल 2013 में भाजपा की सरकार व नगर पालिका भी भाजपा की थी। 416 पेड़ काटने की स्वीकृति के लिए किसी ने ध्यान नहीं दिया। उन्होंने स्वयं अपने अभिभाषक से सुप्रीम कोर्ट में केस दायर कराया और 12 अप्रैल 2016 को पेड़ काटने की अनुमति मिली। दिसंबर 2018 तक योजना को पलीता लगाया गया। प्रदेश में कांग्रेस सरकार आई और मैंने छह महीने की मोहलत मांगी थी। हर दिन मॉनीटरिंग की और आज साढ़े तीन महीने में टंकियों में पानी पहुंचने लगा है। 

सपा-बसपा गठबंधन से सतर्क रहे जनता, ये झूठ और अफवाह फैलाने में माहिर हैं : शिवपाल

फिरोजाबाद (उत्तरप्रदेश): प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष और मुलायम सिंह के छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव ने शुक्रवार को सपा—बसपा गठबंधन पर हमला बोलते हुए जनता को आगाह किया कि वह इनसे सतर्क रहे क्योंकि ये लोग झूठ और अफवाह फैलाने में माहिर हैं। 

शिवपाल ने एक चुनावी जनसभा में कहा, ”सपा—बसपा गठबंधन से सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि ये लोग झूठ और अफवाह फैलाने में माहिर हैं। यह गठबंधन समाज के किसान, युवा, व्यापारी, महिलाओं और अल्पसंख्यक सहित हर वर्ग से विश्वासघात कर रहा है।” 

शिवपाल फिरोजाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र का विकास उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि फिरोजाबाद के लोगों को यहां के कांच उद्योग का संरक्षण करना होगा। शिवपाल ने सपा सांसद अक्षय यादव पर आरोप लगाया कि उन्होंने इस क्षेत्र के मुददों की अनदेखी की है। उन्होंने फिरोजाबाद के चहुंमुखी विकास के लिए कार्य करने का वायदा किया। 

घोषणा पत्र के कारण कांग्रेस पर छाया पाबंदी का खतरा, कोर्ट ने मांगा जवाब

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में पार्टियों ने जमकर वादे करने शुरू कर दिए हैं। इसी क्रम में कांग्रेस पार्टी ने वादा किया है कि अगर वह सत्ता में आई तो देश के 25 फीसदी गरीब परिवारों को हर साल 72,000 रुपये दिए जाएंगे। इस वादे को जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के खिलाफ मानते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कांग्रेस पार्टी को नोटिस जारी किया।
नोटिस जारी कर कोर्ट ने पूछा है कि इस तरह की घोषणा वोटरों को रिश्वत देने की कैटगरी में क्यों नहीं आती और क्यों न पार्टी के खिलाफ पाबंदी या दूसरी कोई कार्रवाई की जाए। कोर्ट ने इस मामले में चुनाव आयोग से भी जवाब मांगा है।
कांग्रेस पार्टी और चुनाव आयोग को जवाब दाखिल करने के लिए दो हफ्ते का वक्त दिया गया है। कोर्ट ने माना है कि इस तरह की घोषणा रिश्वतखोरी व वोटरों को प्रभावित करने की कोशिश है।
यह आदेश चीफ जस्टिस गोविन्द माथुर और एसएम शमशेरी की डिवीजन बेंच ने अधिवक्ता मोहित कुमार और अमित पाण्डेय की जनहित याचिका पर दिया है। याचियों का कहना है कि इस घोषणा को घोषणापत्र से हटाया जाए। साथ ही याचियों के 3 अप्रैल 2019 को चुनाव आयोग को भेजे गये प्रत्यावेदन को निर्णीत किया जाए।
याचिका में कहा, कांग्रेस ने चुनावी घोषणा पत्र में छह हजार रुपये प्रतिमाह के हिसाब से 72 हजार रुपये सालाना 25 फीसद गरीबों के खाते में भेजने का वादा किया है। यह चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। याचिका में कांग्रेस पार्टी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है।

सऊदी अरबः साथी की हत्या के मामले के दोषी दो भारतीयों का सर कलम

लखनऊ। सऊदी अरब में दो भारतीयों का सिर कलम कर उन्हें मौत की सजा दी गई। पंजाब के होशियारपुर निवासी सतविंदर सिंह और लुधियाना के हरजीत सिंह पर अपने साथी आरिफ इमामुद्दीन की हत्या का आरोप था। दोनों को 9 दिसंबर 2015 को हुई वारदात के सिलसिले में गिरफ्तार कर रियाद जेल में रखा गया था। 28 फरवरी, 2019 को इनको सजा हुई। भारत के विदेश मंत्रालय ने अब जाकर मामले की पुष्टि की है। मंत्रालय का कहना है कि सऊदी अरब सरकार द्वारा सजा के बारे में भारतीय दूतावास को नहीं बताया था।

सऊदी अरब के कानून के अनुसार मौत की सजा पाए लोगों के शव उनके परिजनों को नहीं सौंपे जाते हैं। इसलिए ऐसा संभव है कि दोनों भारतीयों के शव उनके परिवारों को न सौंपे जाएं।

इमामुद्दीन भी एक भारतीय नागरिक था। सतविंदर कुमार, हरजीत सिंह और इमामुद्दीन लूट-पाट का धंधा करते थे। इस दौरान इन तीनों के बीच में पैसों को लेकर विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि सतविंदर और हरजीत ने मिलकर इमामुद्दीन की हत्या कर दी। हालांकि सतविंदर और हरजीत को लड़ाई-झगड़ा करने और शराब पीने के जुर्म में सऊदी सरकार ने गिरफ्तार किया था। इन दोनों को वापस भारत भेजने की भी औपचारिकता पूरी की जा रही थी। लेकिन तभी उनके इस हत्याकांड में शामिल होने के सबूत मिले। इसके बाद दोनों के ऊपर मुकदमा चला और मौत की सजा सुनाई गई।

विदेश मंत्रालय के अनुसार सतविंदर और हरजीत ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया था। इस मुकदमे की सुनवाई के दौरान 31 मई, 2017 को एक भारतीय अधिकारी भी मौजूद था। हालांकि 28 फरवरी को मौत की सजा के तहत उनके सिर कलम किए जाने की सूचना दूतावास को नहीं दी गई। इसके चलते दोनों की मौत के बारे में काफी देर से पता चला। भारतीय दूतावास को इस बारे में तब पता चला जब हरजीत की पत्नी ने एक याचिका दायर की। इस याचिका पर जब विदेश मंत्रालय कार्रवाई कर रही थी तब उन्हें इस पूरे मामले का पता चला।

मंत्रालय के अनुसार, हरजीत और सतविंदर 2013 में वर्क परमिट लेकर सऊदी अरब गए थे। वहीं पर उनकी मुलाकात इमामुद्दीन से हुई। तीनों लूटमार के धंधे में कब शामिल हुए, इसका पता नहीं चल सका है।

PM नरेंद्र मोदी चायवाले हैं तो मैं भी दूधवाला हूं: अखिलेश यादव

लखनऊ: चुनावों में नेताओं के सियासी बोल कोई नई बात नहीं है। इस दौरान नेता प्रचार करते-करते निजी हमले करने से भी नहीं चूकते हैं। इस समय देश में चुनावी मौसम है और ऐसे में सियासी नुमाइंदे अपने बयानों के तरकश से रोज नए-नए तीर चला रहे हैं, आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी हैं। इस चुनावी फिजा में कोई किसी से कम नजर नहीं आ रहा। इसी क्रम में ताजा बयान आया है देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का।
अखिलेश यादव ने आजमगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करने के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। अखिलेश ने पीएम मोदी के चाय पर चर्चा का जिक्र करते हुए कहा कि अगर मोदी चायवाले हैं तो वो भी दूथवाले हैं। अखिलेश ने कहा कि चायवाले की चाय खराब निकल गई है। उन्होंने कहा कि जब हमारा दूध ही अच्छा नहीं होगा तो उनकी चाय कैसे अच्छी बनेगी। 

सपा प्रमुख ने कहा कि लगता है पीएम दूध की नहीं बल्कि काली चाय बनाते हैं। इसलिए उनका सारा कारानामा काला है। इसके साथ ही यादव ने कहा कि यह आम चुनाव नहीं है। यह चुनाव देश का भविष्य को बदलनेवाला चुनाव है।

गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के पहले से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर मंच से चायवाले शब्द का जिक्र किया करते है। पीएम विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहते थे कि वह तो चायवाले हैं, उनका क्या, वो तो एक दिन झोला उठा चल देंगे। वो देश के हर तबके का दुख- दर्द समझते हैं और इसीलिए वो रात दिन जनता की सेवा तन-मन से कर रहे हैं। जबकि विपक्ष के लोग भष्टाचार करने के लिए सत्ता की चाहत रखते हैं।

बीजेपी ने बकायदा 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी के चायवाले छवि को खूब भुनाया भी था। पार्टी ने इसके लिए पूर्ण रूप से पूरे देश में एक कार्यक्रम की शुरूआत ‘चाय पे चर्चा’ के नाम से की थी। 

बता दें कि इन दिनों यूपी की राजनीति में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अली बनाम बजरंगबलि का बयान चर्चा में खूब है। ऐसे में समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव का ‘ चायवाल बनाम दूधवाला ‘ बयान पर पीएम क्या पलटवार करेंगे यह देखना दिलचस्प होगा। लेकिन जनता अखिलेश के बयान पर क्या फैसला देगी यह तो भविष्य के गर्भ में ही छुपा है।

दिग्विजय सिंह पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने वाले पर भोपाल में मामला दर्ज

पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट डालने के मामले में दो लोगों के खिलाफ भोपाल जहांगीराबाद थाना पुलिस ने आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। 
जानकारी के अनुसार जी न्यूज ग्लोबल फेंस के नाम से संचालित फेसबुक पेज पर लंबे समय से विभिन्न कांग्रेस नेताओं के चित्रों के साथ छेड़छाड़ कर फर्जी तरीके से पोस्ट कर दुष्प्रचारित किया जाता रहा है। आरोपियों ने दो दिन पहले दिग्विजय सिंह के आपत्तिजनक चित्र बनाकर फेसबुक पर पोस्ट कर दिए एवं दुष्प्रचार किया जा रहा था।

जिसको लेकर फरियादी प्रियनाथ पाठक प्रवक्ता कांग्रेस की शिकायत पर जी न्यूज ग्लोबल फेंस के नाम से पेज संचालित करने वाले नीरज प्रजापति ओर अमित सक्सेना नामक युवक पर भोपाल पुलिस ने धारा 67 आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर दी है।

बताया जा रहा है की आरोपी लंबे समय से चंद रुपयों की खातिर बड़े नेताओं के फोटो एडिट कर उन्हें ब्लैकमेल करने एवं दुष्प्रचारित करने का काम करते हैं। पुलिस के अनुसार आरोपियों से पूछताछ के बाद भारतीय दंड संहिता 292, 509 बढ़ सकती है। विभिन्न समाजसेवी नागरिकों ने मांग की है कि इस तरह किसी के भी फोटो के साथ खिलवाड़ करने वाले आरोपियों को सख्त सजा मिलना चाहिए।