बड़ी खबर: दंतेवाड़ा में भाजपा के काफिले पर नक्‍सली हमला, विधायक भीमा मांडवी सहित चार जवान शहीद

छत्तीसगढ़ के अतिसंवेदनशील नक्सल प्रभावित जिले दंतेवाड़ा में मंगलवार की शाम नक्सलियों ने एक बड़ी घटना को अंजाम दिया। नक्सलियों द्वारा लगाए गए आईईडी की चपेट में आने से हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मौत हो गई। उनके साथ ही घटना में सुरक्षा में तैनात चार जवान भी शहीद हो गए। इस घटना के बाद छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने हाइ लेवल मीटिंग बुलाई है। पीएम मोदी ने हमले की निंदा की है। उन्‍होंने कहा कि भीमा मांडवी भारतीय जनता पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता थे। मेरी संवेदनाएं विधायक के परिवार के साथ है।

स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक भीमा मंडावी कुआकोण्डा ब्लॉक के श्यामगिरी गांव में चुनावी सभा को संबोधित करने के बाद वापस नकुलनार लौट रहे थे, तभी सड़क पर नक्सलियों द्वारा लगाए गए लैंडमाइन्‍स (आइडी) के ऊपर से उनका बुलेट प्रूफ वाहन गुजरा और विस्‍फोट हो गया।

विस्‍फोट में वाहन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। घटना मंगलवार शाम करीब चार बजे की बताई जा रही है। इस हमले में विधायक भीमा मंडावी की मौके पर ही मौत हो गई।

वाहन में विधायक की सुरक्षा में तैनात चार जवान भी सवार थे, जो इस घटना में शहीद हो गए। श्यामगिरी में आज वार्षिक मड़ई मेले का भी आयोजन किया गया था। इसी मेले के दौरान आयोजित जनसभा को संबोधित करने वे जिला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर स्थित इस गांव में गए थे। बता दें कि पांच साल पहले ठीक इसी जगह पर नक्सलियों ने हमला किया था, जिसमें एक जवान शहीद हुआ था।
भीमा मंडावी साल 2008 में दंतेवाड़ा सीट से पहली बार विधायक बने थे। साल 2013 के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा के हाथों हार हुई थी। साल 2018 में वे वापस चुनाव जीतकर आए और बस्तर संभाग से भाजपा के इकलौते विधायक थे। विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष भी और भाजपा के आदिवासी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी थे।

कौन थे भीमा मंडावी
भीमा मंडावी विधानसभा में भाजपा विधायक दल के उपनेता हैं। मंडावी दूसरी बार विधायक चुने गए हैं। दंतेवाड़ा जिले के गदापाल निवासी मंडावी 2008 में विधायक चुने गए थे। 2013 का विधानसभा चुनाव वे देवती कर्मा से हार गए थे, लेकिन 2018 में पार्टी ने फिर से उन्हें टिकट दिया।

इस बार उन्होंने देवती कर्मा को 2071 वोटों से मात दी थी। भीमा को कुल 37 हजार 744 वोट मिले थे, जबकि देवती को 35 हजार 673 वोट। 2002 में स्नातक की डिग्री हासिल करने वाले भीमा पेशे से किसान थे। भीमा के परिवार में माता- पिता और पत्नी ओजस्वी मंडावी के अलावा एक पुत्र खिलेंद्र मंडावी है।

➖➖➖➖ बसपा के लोकसभा प्रत्याशी धाकड लोकेन्द्र सिंह राजपूत मुगाँवली विधानसभा के जनसंपर्क मे जनसैलाब उमडा. ➖➖➖➖➖➖➖➖अशोकनगर /गुना/शिवपुरी।


बहुजन समाज पार्टी(बसपा)के लोकसभा प्रत्याशी धाकड लोकेन्द्र सिंह राजपूत ने मुगाँवली विधानसभा के ग्रामीण क्षेत्र में सघन जनसंपर्क के साथ ही सेक्टर संयोजक ,पोलिंग प्रभारीओ की बैठक ली
सेक्टर संयोजक, पोलिग प्रभारीओ की बैठकें की।
बसपा प्रत्याशी धाकड लोकेन्द्र सिंह राजपूत के एक दिवसीय दौरे की शुरुआत गाँव अथाई खेडा से विधानसभा से हुई इसकेउपरांत गांव बहादुर पुर,सेहराई,पिपराई,बंगला चौराहा, मुगाँवली, अचल गढ

इत्यादि गावों में जनसंपर्क किया
धाकड लोकेन्द्र सिंह राजपूत कहा कि आपने साबित कर दिया कि अब झूठे वादे और बातों से बात नही बनने वाली है महाराज की विदाई तय है क्षेत्र को ऐसा सांसद चाहिए जो क्षेत्र में रह कर क्षेत्र की समस्याओं का निराकरण कर सके। इस दौरे में जिला अध्यक्ष लालाराम कौशिक, लोकसभा प्रभारी बाबूलाल दैलवार, प्रभारी टीआर भंडारी, दामोदर प्रसाद लालू सहित अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

*कहाँ है आगे के दौरे
➖➖➖➖➖
10 अप्रैल को चंदेरी विधानसभा,11अप्रैल को बमोरी विधानसभा,12 अप्रैल गुना विधानसभा के ग्रामीण क्षेत्र मे सघन जनसंपर्क,सेक्टर संयोजक, पोलिग प्रभारी की बैठको को संवोधित करेगे.
➖➖➖➖➖➖.

IT रेड पर PM मोदी बोले- वो कहते हैं ‘चौकीदार चोर है’, लेकिन नोट कहां से निकले

महाराष्ट्र के लातूर मे पीएम नरेंद्र मोदी और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने करीब 28 महीने बाद मंगलवार को एक मंच साझा किया। इस दौरान मोदी ने मध्य प्रदेश में आयकर के छापों पर कांग्रेस पर निशाना साधते आरोप लगाया कि प्रधान विपक्षी दल का ‘भ्रष्टाचार चरित्र’ है। उन्होंने कहा कि वे पिछले छह महीने से कह रहे है, ‘चौकीदार चोर है’ लेकिन देखिए नोट कहां से मिले हैं। चौकीदार से कौन डरता है? अगर इतना पैसा बरामद हो रहा है तो उनका चौकीदार को गाली देना स्वाभाविक है। पीएम मोदी ने कहा “ आपने देखा होगा कल.परसों कैसे कांग्रेस के दरबारियों के घर से बक्सों में नोट निकले हैं, नोट से वोट खरीदने का ये पाप इनकी राजनीतिक संस्कृति रही है। ये पिछले छह महीनों से बोल रहे हैं ‘चौकीदार चोर है’ लेकिन नोट कहां से निकले? असली चोर कोन है?

लातूर में पीएम मोदी के भाषण की 10 मुख्य बातें

1- 2022 तक किसानों की आय दोगुनी हो, ये हमारा संकल्प है और इस संकल्प को पूरा करने के लिए हमने 22 फसलों का एमएसपी लागत का डेढ़ गुना तय किया है। हमने बीज से बाज़ार तक पुरानी व्यवस्थाओं को बदलने के लिए काम किया है।

2- जम्मू कश्मीर में 2 प्रधानमंत्री की बात करने वाले लोग क्या जम्मू-कश्मीर के हालात सुधार पाएंगे? इनकी सच्चाई देश के हर व्यक्ति को समझनी चाहिए। अपने वोट बैंक और अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए इन लोगों ने देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया है। 

3- कांग्रेस कह रही है कि हिंसा वाले इलाकों में सैनिकों को मिले विशेष अधिकार को वो वापस ले लेंगे। पाकिस्तान भी तो यही चाहता है। कांग्रेस कह रही है कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 कभी नहीं हटाई जाएगी। जो बात कांग्रेस का ढकोसला पत्र कह रहा है, वही बात पाकिस्तान भी कह रहा है। कांग्रेस वाले कह रहे हैं कि हम देशद्रोह का कानून हटाएंगे, अरे मैं कहता हूं कि पहले दर्पण में जाकर अपना मुहं देखो। आप कांग्रेस वाले ही थे जिन्होंने बालासाहेब ठाकरे जी का नागरित्व छीन लिया था, उनका मतदान करने का अधिकार छीन लिया था। 

4- नक्सलियों और माओवादियों से मुक्त भारत हमारा संकल्प है। हमारे 5 वर्ष की सबसे बड़ी कमाई है, विश्वास जो हुआ उसके लिए भी आपका ये चौकीदार याद आता है और जो होना चाहिए उसकी भी जिम्मेदारी मेरी ही हिस्से में है। हमारी संस्कृति और परंपरा की रक्षा और राष्ट्र की सुरक्षा के लिए ही हमारे सारे काम और संकल्प है। घुसपैठ को पूरी तरह बंद करेंगे, ये हमारा संकल्प है। नक्सलियों पर प्रहार करेंगे और आदिवासियों तक विकास का लाभ पहुंचाने के लिए हमने दिन रात मेहनत की है।

5- आतंकवादियों के अड्डे पर घुस कर मारेंगे ये नये भारत की नीति है। आतंक को हराकर ही हम दम लेंगे ये हमारा संकल्प है। जम्मू कश्मीर में राष्ट्रवादियों के मन में हमने नया विश्वास जगाया है।

6- राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा है। अंत्योदय हमारा दर्शन है और सुशासन हमारा मंत्र है। इसी भावना पर नए भारत के निर्माण के लिए हम देश के हर नागरिक की भागीदारी चाहते हैं।

7- छत्रपति शिवाजी महाराज जैसे महाराष्ट्र की धरती के शूरवीरों ने जिस प्रकार से स्वाभिमानी और शक्तिशाली राष्ट्र की कल्पना की थी, आज उसी रास्ते पर भारत चल पढ़ा है। इस भयंकर ताप में आप जो तपस्या कर रहे हैं उसको मैं बेकार नहीं जाने दूंगा। इसे मैं ब्याज समेत विकास करके लौटाऊंगा। आपका ये आशीर्वाद ही है जो मुझे निरंतर काम करने की प्रेरणा देता है: पीएम मोदी  

8- 2014 में हम आपके सामने कुछ लक्ष्य लेकर आये थे।  इन लक्ष्यों को पूरा करने में आपने जो मेरा साथ दिया है, उसके लिए मैं हमेशा आपका आभारी रहूंगा।

9- प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के जरिए अभी 12 करोड़ छोटे और सीमांत किसानों के खातों में आज सीधे पैसे जमा हो रहे हैं। और भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में घोषित किया है कि चुनाव के बाद हमारी नई सरकार आते ही इस योजना को आगे बढ़ाकर सारे किसानों को इस योजना का लाभ दिया जायेगा। 

10-2022 तक हर बेघर को पक्का घर देना हमारा संकल्प है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत हमारी सरकार ने 50 करोड़ गरीबों के लिए हर वर्ष मुफ्त इलाज का प्रबंध किया है। अब हमने हर गरीब के दरवाज़े पर प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाएं ले जाने का संकल्प लिया है।

मेरठ में बोले योगी- कांग्रेस, SP-BSP का अली में भरोसा तो हमारा बजरंगबली में

लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए होने वाले मतदान से दो दिन पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हिंदुओं के पास भारतीय जनता पार्टी के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचा है, देश में दलित-मुस्लिम एकता संभव नहीं है. योगी आदित्याथ ने बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा.

आजतक से खास बात करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिस तरह मायावती ने मुस्लिमों के लिए वोट मांगे हैं, मुस्लिमों से कहा है कि वह सिर्फ गठबंधन के लिए वोट करें और अपना वोट बंटने ना दें. अब हिंदुओं के पास भारतीय जनता पार्टी के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है.

मेरठ की जनसभा की में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का अली में विश्वास है, तो हमारा बजरंगबली में विश्वास है. उन्होंने कहा कि मायावती ने रैली में कहा कि वह सिर्फ मुस्लिम वोटरों का वोट चाहती हैं. 

यूपी सीएम ने कहा कि दलित-मुस्लिम एकता संभव नहीं है, क्योंकि विभाजन के वक्त दलित नेताओं के साथ पाकिस्तान में किस तरह का बर्ताव हुआ, ये दुनिया ने देखा है. उन्होंने कहा कि भारत में बाबा साहेब अंबेडकर बड़े दलित नेता हुए, लेकिन योगेश मंडल बंटवारे के वक्त पाकिस्तान चले गए थे.

योगी आदित्यनाथ बोले कि जब योगेश मंडल ने पाकिस्तान में दलितों पर अत्याचार देखा तो वह वापस भारत आ गए थे. उन्होंने आरोप लगाया कि महागठबंधन ने मुस्लिम वोटरों का ध्रुवीकरण करने की कोशिश की है, इसलिए बचे हुए समाज को सोचना चाहिए कि उन्हें किसके लिए वोट करना है.

गौरतलब है कि देवबंद की रैली में बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने मुस्लिम वोटरों से अपील की थी कि एक मुश्त होकर महागठबंधन के लिए वोट दें, अपना वोट बंटने ना दें.

पश्चिमी यूपी को लेकर उन्होंने कहा कि वेस्ट यूपी में मुस्लिम-दलितों का वोट आसानी से ट्रांसफर नहीं होगा, वहीं बीजेपी को इससे फायदा होगा और बड़ी जीत मिलेगी. उन्होंने एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा और कहा कि राहुल का अमेठी छोड़कर वायनाड जाने की वजह भी मुस्लिम वोट हैं.

आपको बता दें कि योगी आदित्यनाथ इससे पहले भी कांग्रेस की साथी मुस्लिम लीग पार्टी पर निशाना साध चुके हैं. उन्होंने पार्टी के हरे झंडे के बहाने कहा था कि ये एक वायरस की तरह है जो कांग्रेस देशभर में फैलाना चाहती है..

मप्र में छापे/ सीबीडीटी चेयरमैन- राजस्व सचिव चुनाव आयोग से मिले, कमलनाथ ने कहा- पूरी कार्रवाई राजनीतिक

भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर आयकर के छापे के बाद सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (सीबीडीटी) के चेयरमैन और राजस्व सचिव ने मंगलवार को चुनाव आयोग से मुलाकात कर कार्रवाई के बारे में जानकारी दी। इस बीच कमलनाथ ने कहा कि राजनीतिक दृष्टि से जो करने का प्रयास किया जा रहा है, उसमें कोई सफल होने वाला नहीं है।

वहीं, मंगलवार को ही कमलनाथ के निजी सचिव रहे प्रवीण कक्कड़ के सहायक अश्विन शर्मा के घर वन विभाग की टीम पहुंची। बाघ, काला हिरण, तेंदुए, सांभर, चीतल के अवशेषों का सजावटी सामान (ट्रॉफियां) बरामद किया गया। बताया जा रहा है कि अश्विन पर वन्यजीव संरक्षण कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।

कैश का हिस्सा एक बड़ी राजनीतिक पार्टी को ट्रांसफर किया गया’

1 इससे पहले दिल्ली से आई आयकर विभाग की छापे की कार्रवाई में 281 करोड़ रु. के बेहिसाबी कैश रैकेट का पता चला था। सीबीडीटी ने बताया था कि राजनीति, व्यापार और सरकारी सेवाओं से जुड़े लोगों के जरिए यह रकम इकट्ठा की गई थी। सीबीडीटी के मुताबिक, कैश का एक हिस्सा हवाला के जरिए दिल्ली स्थित एक बड़ी राजनीतिक पार्टी के मुख्यालय में भी ट्रांसफर किया गया। इसमें 20 करोड़ रु. की वह रकम भी शामिल है, जिसे हाल ही में पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी के तुगलक रोड स्थित आवास से पार्टी मुख्यालय में भेजा गया था। हालांकि, सोमवार को सीबीडीटी की तरफ से जारी बयान में किसी नेता विशेष के नाम का जिक्र नहीं किया गया।

2 अश्विन शर्मा और प्रतीक जोशी के यहां सोमवार सुबह 1.46 करोड़ रुपए की नकदी की और बरामदगी की गई। इसके दो बाद दो दिन की कुल जमा नकदी 10.46 करोड़ रु. हुई। इसके अलावा 281 करोड़ रुपए के ट्रांजेक्शन के प्रमाण भी मिले। कैश अधिक होने के कारण आयकर विभाग की टीम ने एटीएम में कैश डालने वाली एजेंसी कैश रिप्लेसमेंट एजेंसी (सीआरए) की वैन बुलाई। इसके जरिए सारा कैश 5 बड़े बॉक्स में भरकर बैंकों में जमा कराने भेजा गया। 

  1. दिल्ली में छापों के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी के रिश्तेदार के यहां से बड़ी संख्या में कैशबुक मिलीं। इनके जरिए 230 करोड़ रुपए के अवैध लेनदेन किए गए। बोगस बिलों के जरिए 242 करोड़ रुपए विदेशों में भेजे जाने के पुख्ता प्रमाण भी मिले हैं। वे टैक्स हेवन कहे जाने वाले देशों में 80 से अधिक कंपनियों का संचालन कर रहे थे। इसके साथ ही दिल्ली के पॉश इलाकों में बेनामी संपत्ति भी मिली है। इस पूरे में मामले में चुनाव आचार संहिता का बड़ा उल्लंघन सामने आया है। इस बारे में चुनाव आयोग को अवगत करा दिया गया है।
  2. आयकर छापों में राज्य पुलिस की जानकारी के बिना सीआरपीएफ के इस्तेमाल को लेकर डीजीपी वीके सिंह ने आपत्ति जताते हुए मुख्य सचिव को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने सीएस से आग्रह किया है कि वे इस मुद्दे को केंद्र सरकार के समक्ष उठाएं। सिंह ने पत्र में लिखा है कि आईटी के करीब 20 अधिकारियों के साथ सीआरपीएफ के ऑटोमेटिक हथियारों से लैस 200 से ज्यादा अधिकारी-कर्मचारी इन छापों में शामिल रहे। जिस तरह रहवासी क्षेत्र में सीआरपीएफ को तैनात किया गया, वह खतरनाक दिखता है। इतनी बड़ी संख्या में हथियारबंद जवानों की उपस्थिति से खौफ पैदा हुआ। इस तरह के ऑपरेशन में केंद्रीय बलों को सहयोग करने के लिए राज्य पुलिस हमेशा तैयार है, लेकिन इस मामले में उनका रवैया संदिग्ध और असहयोगात्मक है।

सभी उपार्जन केन्द्रों पर एक सप्ताह के अंदर गेहूं की खरीदी शुरू हो, कलेक्टर ने अधिकारियों को दिए निर्देश।



शिवपुरी/ कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने शासन द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर जिले में गेहूं खरीदी की प्रगति की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस सप्ताह सभी उत्पादन केन्द्रों पर गेहूं की खरीदी शुरू हो जाना सुनिश्चित करें। इसके लिए केन्द्रों पर जो व्यवस्था रह गई है, उन्हें तत्काल करें।
कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने उक्त आशय के निर्देश संबंधित अधिकारियों को गेहूं उपार्जन के संबंध में केन्द्रों पर की गई व्यवस्थाओं के संबंध में संबंधित विभागों के अधिकारियों की बैठक में दिए। जिलाधीश कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में अपर कलेक्टर श्री आर.एस.बालौदिया सहित सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारी एवं संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे।
कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि सभी उपार्जन केन्द्रों पर बोरो की सिलाई हेतु पर्याप्त मात्रा में सिलाई मशीनों की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिए कि जिले के किसानों को उपार्जन केन्द्र पर 21 तारीख को उन्हें अपना गेहूं उपार्जन हेतु लेकर आना है, उसकी सूचना एसएमएस के माध्यम से दी जाए। यह सुनिश्चित करें कि इससे संबंधित किसानों से किसी प्रकार की शिकायत प्राप्त न हो। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी उपार्जन केन्द्रों पर किसानों के लिए छाया, पानी जैसी मूलभूत सुविधाए आवश्यक रूप से रहें और कोई भी उपार्जन केन्द्र ऐसे स्कूल या संस्था में न हो, जो मतदान केन्द्र हो। ऐसी स्थिति होने पर गेहूं खरीदी हेतु वैकल्पिक स्थान का चयन कर व्यवस्था सुनिश्चित करें।
कलेक्टर ने जिले के सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारियों को निर्देश दिए कि उनके कार्य क्षेत्र में स्थित मण्डियों में पंजीकृत व्यापारियों के गोदामों का भौतिक सत्यापन भी आवश्यक रूप से करें और उन व्यापारियों के गोदामों की प्रतिदिन की भण्डारण की जानकारी भी आवश्यक रूप से लें। उन्होंने गेहूं उपार्जन के साथ-साथ चना, मसूर, सरसों का भी निरीक्षण करने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि जिलें में गेहूं उपार्जन हेतु 71 केन्द्रों से बढ़कर अब 95 केन्द्र हो गए है। बैठक में बताया गया कि 8 केन्द्रों पर अभीतक 1927 मेट्रिक टन गेहूं की खरीदी हो चुकी है।