मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना में किसान भाइयों का सहयोग करने पहुँचे – कांग्रेसी

कोलारस :- आज कांग्रेसियों ने क्षेत्रीय सांसद श्रीमंत ज्योतिरादित्य सिंधिया के निर्देश पर एवं प्रदेश महामंत्री हरबीर सिंह रघुवंशी के मार्गदर्शन में कोलारस नगर में हनुमान मन्दिर के सामने पानी टंकी के पास पहुँच कर मुख्यमंत्री फसल ऋण माफी योजना के अंतरगत किसान भाइयों का सहयोग किया।
जिसमें मुख्य रूप से कोलारस ब्लॉक अध्यक्ष भरत सिंह चौहान, मण्डलम अध्यक्ष बलबीरनिबौरिया,नगर परिषद अध्यक्ष रविन्द्र शिवहरे, पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष सौहन गौड़, पूर्व नपा अध्यक्ष धर्मेन्द्र जैन, अमोल सिंह गुर्जर, पवन शिवहरे, नवल सिंह सौलंकी,जसवंत पाल, रफीक मोहम्मद, पुन्नाराम जाटव, दीपक वत्स,साहब सिंह धाकड़, हेमंत कुशवाह , मनीराम धाकड़, हीरा लाल कोली आदि सभी उपस्थित रहे।

शिवपुरी में खाद नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री तोमर करेंगे ध्वजारोहण

शिवपुरी, 22 जनवरी 2019/ खाद नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के मुख्य आतिथ्य में गणतंत्र दिवस का जिला स्तरीय मुख्य समारोह 26 जनवरी 2019 को प्रातः 09 बजे से तात्याटोपे स्टेडियम पोलोग्राउण्ड शिवपुरी में आयोजित होगा।
समारोह के मुख्य अतिथि श्री तोमर प्रातः 09 बजे समारोह स्थल पर पहुंचकर ध्वजारोहणकरेंगे एवं राष्ट्रगान होगा। प्रातः 09.05 बजे मुख्य अतिथि द्वारा आयोजित संयुक्त परेड का निरीक्षण करेंगे। प्रातः 09.10 बजे प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय श्री कमलनाथ जी के गणतंत्र दिवस संदेश का वाचन करेंगे। प्रातः 09.20 बजे हर्ष फायर होगा, 09.25 बजे मार्चपास्ट और 09.40 बजे समारोह के मुख्य अतिथि द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का सम्मान करेंगे। प्रातः 09.45 बजे छात्र-छात्राओं द्वारा देशभक्ति पर केन्द्रित आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जाएगी। प्रातः 10.25 बजे मुख्य अतिथि द्वारा पुरस्कार प्रदाय किए जाएगें। प्रातः 10.35 बजे राष्ट्रगान होगा।

सलमान खान को लोकसभा चुनाव में उतारने की चर्चा गरम

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीना के बाद अब मिनी मुंबई कहे जाने वाले इंदौर से कांग्रेस बॉलीवुड के दबंग सलमान खान को चुनाव लड़ाने की तैयारी में है. दरअसल, कांग्रेस प्रदेश सचिव राकेश यादव ने बयान दिया है कि सलमान के नाम पर कांग्रेस पार्टी में मंथन चल रहा है.प्रदेश सचिव का कहना है कि सलमान खान चुनाव लड़ेंगे तो इंदौर में युवाओं युवाओ को फिल्म इंडस्ट्री का लाभ मिलेगा. गौरतलब है कि सलमान खान का जन्म इंदौर में ही हुआ था. उन्होंने अपने बचपन का काफी समय इंदौर में बिताया है. सलमान समय-समय पर इंदौर आते जाते भी रहे हैं और कई मौकों पर उन्होंने अपने इंदौर प्रेम को भी जाहिर किया है.इससे पहले बॉलीवुड अभिनेत्री और पटौदी खानदान की बहू करीना कपूर की भी भोपाल से चुनाव लड़ने की सुगबुगाहटें जोर थीं. करीना कपूर को भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट दिए जाने की चर्चा है. पार्टी के कुछ नेता ऐसा चाहते हैं और अपनी इच्छा हाईकमान राहुल गांधी को बता चुके हैं.दरअसल, भोपाल के कुछ स्थानीय नेता बॉलीवुड की ग्लैमर गर्ल करीना को भोपाल से सांसद बनते देखना चाहते हैं. इन नेताओं ने करीना को भोपाल से टिकट देने की मांग हाईकमान तक पहुंचा दी है. इसके पीछे उनका तर्क यही है कि अगर भोपाल सीट बीजेपी से छीनना है तो ऐसा ही कोई चेहरा कांग्रेस को यहां से उतारना होगा.

नर्मदा परिक्रमा : तीन महीने से 25 किमी रोज पैदल चल रही 7 साल की स्वरा, साथ में कुत्‍ता भी

सात साल की बच्ची स्वरा ने पैदल नर्मदा परिक्रमा का बीड़ा उठाया है और अब तक सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय भी कर लिया है. उसके साथ एक कुत्‍ता भी लगातार चल रहा है.

आपने अभी तक कई प्रकार के भक्तों के बारे में देखा और सुना होगा, लेकिन हम जिन भक्तों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, उनके बारे में जानकर आप चौंंकने पर मजबूर हो जाएंगे. जी हां, हम बात कर रहे हैं सात साल की बच्ची स्वरा और एक कुत्ते कालूराम की. स्‍वरा ने पैदल नर्मदा परिक्रमा का बीड़ा उठाया है और अब तक सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय भी कर लिया है. अब तक पूरे सफर में कालूराम भी उसका साथ निभा रहा है. मासूम स्वरा खेलने-कूदने की उम्र में प्रतिदिन 25 किलोमीटर का सफर हंसते-खेलते हुए पैदल तय करती है. इतना ही नहीं, सात साल की इस मासूम को नर्मदा अष्टक संस्कृत भाषा में कंठस्थ है, जिसे वो अपने अंदाज में बोलकर सुनाती भी है.दरअसल तीन महीने पहले महाराष्ट्र की सिलपुर तहसील के बाड़ी बुद्रु गांव का गुर्जर परिवार नर्मदा परिक्रमा करने के लिए घर से निकला था. तब सात वर्ष की स्वरा भी नर्मदा परिक्रमा करने की जिद करने लगी थी. पहले तो परिवार वालों ने उसे खूब समझाया, पर जब वो नहीं मानी तब परिवार वाले स्वरा को यह सोचकर साथ ले आए कि एक-दो दिन पैदल चलने के बाद वो थक जाएगी, फिर उसे वापस घर भेज दिया जाएगा. लेकिन थकना तो दूर, इस मासूम बच्ची के चेहरे पर शिकन तक नहीं आई और परिक्रमा के दौरान वो जत्थे में सबसे आगे चलकर अपने परिवार का हौसला बढ़ाती है.स्वरा के परदादा वासुदेव गुर्जर बताते हैं कि उन्होंने ओंकारेश्वर से नर्मदा परिक्रमा की शुरुआत की थी और उनकी परिक्रमा अमरकंटक से होकर ओंकारेश्वर में पूर्ण होगी. पिछले तीन महीने से वो प्रतिदिन 25 किलोमीटर का सफर पैदल तय करते हैं. इस दौरान उनके पैरों में छाले पड़ गए हैं, लेकिन सफर में स्वरा को छाले पड़ना तो दूर, उसे जरा भी थकान तक महसूस नहीं होती है. इसे वो नर्मदा जी का चमत्कार मानते हैं. नर्मदा परिक्रमा में सात वर्षीय स्वरा के साथ उसके माता पिता और दादा सहित गुर्जर परिवार के 13 शामिल हैं. स्वरा और कुत्ते का नर्मदा के प्रति इतना प्रेम और समर्पण देख लोग आश्चर्यचकित हैं. लोग जगह-जगह उनकी जमकर खातिरदारी भी कर रहे हैं.

महिला बाल विकास मंत्री बोलीं कोई लीगल काम नहीं होगा.

शिवपुरी। बैराड़ में सोमवार को आयोजित स्वागत कार्यक्रम में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास विभाग मंत्री इमरती देवी की जुबान फिसल गई। उन्होंने कहा कि जब प्रदेश में हमारी सरकार नहीं थी, तो हमारी सुनवाई नहीं होती थी। मैं भी दस साल से विधायक हूं, लेकिन अब सरकार आपकी है और अब कोई भी लीगल काम नहीं होगा।

मंत्री इमरती देवी पोहरी विधायक सुरेश राठखेड़ा के घर उनकी मां के निधन पर शोक व्यक्त करने गईं थीं। ग्राम राठखेड़ा पहुंचने से पहले बैराड़ में आयोजित एक स्वागत कार्यक्रम में इमरती देवी ने कहा कि अब 15 साल बाद हमारी सरकार प्रदेश में बनी है।

मुझे तीन विधायकों की जिम्मेदारी दी है, जिसमें सुरेश राठखेड़ा व करैरा के जसवंत जाटव भी शामिल हैं। इसलिए आप लोग अब चिंता न करें, आपका कोई भी लीगल काम नहीं होगा।

अमेरिकी हैकर का दावा, 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के लिए की थी EVM हैक

अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट सैयद शूजा ने दावा किया है कि भारत में 2014 के आम चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) हैक की गई थी. शूजा उस टीम के सदस्य रहे हैं जिन्होंने भारत की ईवीएम को डिजाइन किया था. शूजा ने इस बाबत सोमवार को लंदन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और ईवीएम हैकिंग से जुड़ी कई बातें रखीं.

सैयद शूजा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अपनी बात रखी. लंदन में आयोजित इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल भी मौजूद रहे.

शूजा का दावा

साइबर एक्सपर्ट शूजा ने दावा किया है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की गई. शूजा ने एक चौंकाने वाला दावा यह किया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री गोपीनाथ मुंडे की हत्या हुई थी न कि दुर्घटना क्योंकि उन्हें ईवीएम हैकिंग की जानकारी थी. शूजा ने आरोप लगाया है कि टेलीकॉम कंपनी रिलायंस ने बीजेपी को हैकिंग में मदद की. साइबर एक्सपर्ट शूजा का दावा है कि गौरी लंकेश की भी हत्या हुई क्योंकि वे ईवीएम हैकिंग पर खबर करने वाली थीं. शूजा ने बीजेपी के अलावा कई पार्टियों को घेरा है और कहा है कि समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और आम आदमी पार्टी भी ईवीएम हैकिंग में शामिल हैं.

और क्या कहा, शूजा ने

सैयद शूजा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आम आदमी पार्टी ने उनसे मुलाकात कर ईवीएम हैकिंग को डेमोन्स्ट्रेट करने की मांग की थी लेकिन उन्होंने यह मांग ठुकरा दी. रिलायंस कम्युनिकेशन के बारे में शूजा ने कहा कि इस कंपनी के पास डेटा ट्रांसमिट के लिए नेटवर्क है और इसका फायदा बीजेपी को मिला है. शूजा के मुताबिक, ‘हिंदुस्तान में 9 सेंटर ऐसे हैं जहां से डेटा ट्रांसमिट होते हैं. कर्मचारियों को पता नहीं कि वे क्या कर रहे हैं. उन्हें यही पता होता है कि वे डेटा इंट्री कर रहे हैं.’

शूजा का दावा है कि बीजेपी के लोगों को अगर भनक नहीं लगी होती तो छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी बीजेपी आसानी से जीत जाती. उसने कहा कि 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में डेटा ट्रांसमिशन को रोक दिया गया, तभी आप 70 में 67 सीटें जीत गई, अन्यथा बीजेपी सभी सीटें जीत ले जाती.

शूजा का कहना है कि कई पार्टियों ने उनसे संपर्क कर जानने की कोशिश की कि कैसे ईवीएम को हैक किया जा सकता है. इन पार्टियों में सपा, बसपा और आम आदमी पार्टी भी शामिल हैं. शूजा के मुताबिक, ‘सपा-बसपा हमसे मिले और जानना चाहा कि हैकिंग में क्या कुछ हो सकता है. हमने कांग्रेस से मुलाकात की और मदद का भरोसा दिलाया. आम आदमी पार्टी हैक का तरीका जानना चाहती थी क्योंकि उसे दुनिया को ईवीएम हैक कर दिखाना था.’

शूजा ने कहा कि गोपीनाथ मुंडे की हत्या इसलिए हुई क्योंकि उन्हें हैकिंग की जानकारी थी. शूजा ने कहा, ‘एनआईए अधिकारी तंजिल अहमद मुंडे की मौत को हत्या बताते हुए एफआईआर दाखिल करने वाले थे लेकिन उन्होंने खुदकुशी कर ली.’

शूजा का दावा है कि उनकी टीम हैकिंग को लेकर बीजेपी के नेताओं से हैदराबाद में मिलने वाली थी लेकिन उन्होंने सोचा कि हम ईवीएम बारे में जो जानते हैं उसे लेकर उन्हें ब्लैकमेल करेंगे. शूजा ने दावा किया कि जब उनकी टीम बीजेपी नेताओं से हैदराबाद के एक उपनगरीय इलाकों में मिलने जा रही थी, उनकी टीम पर गोलियां चलाई गईं लेकिन वे बच गए. शूजा ने यह भी कहा कि इस गोलीबारी को ढकने के लिए हैदराबाद के किशनगढ़ में एक सांप्रादियक दंगा भी कराया गया. उनका जो साथी मारा गया उसे दिखा दिया गया कि लोगों ने उसकी हत्या की है.

शादियों में कैटरिंग करने वाला मदन कैसे बन गया शनि धाम का दाती महाराज, जानें पूरी कहानी

देश में एक और बाबा ने पूरे संत समाज को बदनाम कर दिया है। इस बार मामला शनिधाम के संस्थापक का है जो दाती महाराज के नाम से मशहूर है। दाती महाराज के लाखों अनुयायी हैं जो शनि देव के प्रकोप से बचने के लिए इनके पास आते हैं। शिष्या के शोषण में फंसा दाती महाराज कभी राजस्थान का मदन हुआ करता था। आखिर कैसे वो एक गांव से निकलकर शनिधाम का संस्थापक बन गया। आइए जानें पूरी कहानी

राजस्थान में जन्मा है दाती महाराज

खबर के मुताबिक दाती महाराज का असली नाम मदन है। उसका जन्म राजस्थान में जुलाई 1950 में हुआ था। मदन पाली के अलावास गांव में देवाराम के यहां जन्मा था। मदन यानि दाती महाराज का पिता ढोलक बजाकर अपना परिवार पाला करता था। वहीं दाती की मां तो उसके जन्म के कुछ समय बाद ही मर गई थी।

पिता की मौत के बाद आया दिल्ली, शुरू किया चाय के ठेले पर काम

मदन जब सात साल का था, तब उसके पिता देवाराम की मौत हो गयी। इसके बाद खाने-पीने का ठिकाना न होने की वजह से मदन गांव के एक आदमी के साथ दिल्ली आ गया। यहां पर मदन ने चाय के ठेले पर बर्तन धोने, चाय बनाने से लेकर सारे काम किये। जैसे तैसे दिल्ली में मदन ने पेट भरने का जुगाड़ करना सीख लिया लेकिन आगे बढ़ने की तमन्ना हमेशा दिल में रखी।

कैटरिंग के काम ने पलट दी किस्मत

मदन ने चाय की दुकान पर काम करते-करते ही कैटरिंग का काम भी सीख लिया। यहीं से उसकी किस्मत पलट गयी। मदन छोटी पार्टी और बर्थडे की कैटरिंग करने लगा। वो साल 1996 था। जब इसी काम के दौरान उसकी मुलाकात राजस्थान के एक ज्योतिषी से हुई। आगे बढ़ने की ललक रखने वाले मदन ने उस ज्योतिष से जन्म कुंडली देखना भी सीखी लिया और थोड़ी बहुत गणना जानने लगा।

कुंडली के व्यापार में दिखा फायदा तो बंद कर दी कैटरिंग

तरक्की की राह देख रहे मदन को ज्योतिष में फायदा और तरक्की नजर आई तो उसने कैटरिंग से जमा पैसों से कैलाश कॉलोनी में कुंडली देखने का केन्द्र खोल लिया। इसके बाद मदन ने कैटरिंग का काम बंद कर दिया और ज्योतिष केन्द्र में लोगों की कुंडलियां बांचने लगा। अंधविश्वास की वजह से उसका धंधा चल निकला और बस यहीं से मदन बन गया दाती महाराज.

एक नेता का भविष्य बताया और सच हो गई बात

मदन यानि दाती महाराज किस्मत का धनी था। बात 1998 की है, दिल्ली में विधानसभा के चुनाव होने वाले थे। इस बीच एक नेता उसके केन्द्र में अपनी जन्म पत्री दिखाने आया तो दाती महाराज ने एलान कर दिया कि ये चुनाव जीत जाएगा। किस्मत से वो नेता चुनाव जीत भी गया और विधायक बन गया। नेता ने खुश होकर अपना पुश्तैनी मंदिर जो फतेहपुर बेरी में था, उसको दाती के नाम कर दिया.

सटीक भविष्यवाणियों ने बना दिया हीरो

थोड़ा बहुत कुंडली देखने का ज्ञान रखने वाले दाती महाराज का किस्मत ने खूब साथ दिया। शनि मंदिर में बैठकर लोगों का भविष्य बताने वाले दाती की भविष्यवाणियां सच निकलने लगीं तो लोगों का उस पर भरोसा भी होने लगा। दाती महाराज की ख्याति फैली जब टीवी चैनलों में भी उसको शनि के बड़े उपासक के रूप में दिखाया जाने लगा। दाती ने मंदिर के आसपास की जमीनों पर भी कब्जा कर लिया।

2010 में मिल गयी महामंडलेश्वर की उपाधि

दाती महाराज की ख्याति इतनी फैल गयी कि 2010 में जब हरिद्वार में महाकुंभ हुआ तो उसको महा मंडलेश्वर की उपाधि दे दी गयी। इसके बाद दाती ने मंदिर को सिद्ध शक्तिपीठ शनिधाम पीठाधीशवर नाम दे दिया। उसने अपना नाम भी श्री श्री 1008 महामंडलेशवर परमहंस दाती जी महाराज रख लिया। टीवी चैनल पर शनि शत्रु नहीं मित्र है नामकर प्रोग्राम से पूरे देश में उसका नाम हो गया।

कैसे खुली दाती महाराज बने मदन की पोल

कहते हैं कि पाप का घड़ा भरता है। यही हुआ दाती के साथ जब उसके कुकर्मों का काल चिट्ठा दुनिया के सामने आ गया। दाती की 25 साल की शिष्या ने उसकी सच्चाई लोगों के सामने लाई। उसने बताया कि नौ जनवरी, 2016 को उसको दाती महाराज के पास ले जाया गया। इसके बाद दाती, उसके शिष्य अर्जुन, अशोक व नीमा जोशी ने उसके साथ अलग-अलग दुष्कर्म किया। दाती के खिलाफ मामला दर्ज हो चुका है…

डर गये महाराज या फिर भविष्य के लिये खेल रहे कोई खेल

**सिंधिया क्यों पहुंचे शिवराज सिंह चौहान से मिलने उनके घर**
सब लोगों के दिमाग में एक सवाल खड़ा कर दिया है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया शिवराज सिंह चौहान से मिलने उनके निवास पर क्यों पहुंचे. राजनीति ने यह तो सिद्ध कर ही दिया है यहां दोस्त और दुशमन केवल अपना अपना स्वार्थ साधने के लिये बनाये जाते हैं, राजनीति के मंच के पीछे सब एक हैं. बेवकूफ बनती है तो केवल जनता.
सिंधिया जी शिवराज सिंह से मिलने जा रहे हैं तो इसमें कुछ न कुछ सौदेबाजी तो होगी ही. चूंकि सिंधिया पहुंचे हैं मिलने तो उनका ही कुछ फायदा होगा.
लोकसभा चुनाव नजदीक हैं और मीडिया में ये खबरें गरम हैं कि शिवराज सिंह चौहान इसबार गुना आकर श्री मंत के सामने ताल ठोक सकते हैं , हो सकता है श्री मंत शिवराज सिंह चौहान का मन टटोलने पहुंचे हों.
दूसरा कारण भाजपा में बहुत से पुराने घाघ नेता जो शिवराज सिंह की वजह से अपने पैर मध्यप़देश की राजनीति में नहीं जमा पा रहे ,
शिवराज सिंह को दरकिनार करना चाहते हैं,
उनको यह जतलाने के लिये की कांग़ेस भी उनके नेता से सलाह मशविरा कर सकती है भविष्य की राजनीति के लिये.
तीसरा कारण क्या आगे आने वाले समय में मध्यप़देश की दो ताकतें एक हो कुछ नया दे सकती हैं.
ये राजनीति है इसमें कुछ भी हो सकता है उधर कुछ दिन पहले मंच पर अमितशाह द्वारा शिवराज सिंह चौहान का सार्वजनिक अपमान चर्चा का विषय था. तो दूसरी तरफ कांग़ेस में कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद देकर ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भी बहुत बड़ा विश्वासघात कर प़देश की राजनीति से दरकिनार कर दिया था.
यह टीस श्री मंत को शिवराज सिंह के पास ले गई हो.
कुछ भी हो लेकिन यह विषय चर्चा में जरुर रहेगा कि श्री मंत कहीं डर तो नहीं गये शिवराज सिंह के गुना शिवपुरी आकर चुनाव लड़ने के पैंतरे से. खैर देखते हैं आगे आगे होता है क्या.

हरियाणा में ‘कबूतरबाजों’ पर कार्रवाई शुरू, 21 लोगों पर FIR दर्ज, स्पेशल सेल भी बनेगा

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि राज्य सरकार अवैध तरीके से लोगों को विदेश भेजने वालों (कबूतरबाजों) पर सख्त कार्रवाई करने के लिए स्पेशल सेल स्थापित करेगी। उन्होंने कहा कि अवैध रूप से विदेश भेजने वाले 21 लोगों के खिलाफ प्रदेश में एफआईआर दर्ज की गई है और जल्द ही उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

खट्टर ने यह जानकारी रविवार को वाराणसी में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भेंट के दौरान उस समय दी जब सुषमा स्वराज ने हरियाणा में सक्रिय ऐसे एजेंटों का जिक्र किया जो बिना वीजा के ही अवैध तरीके से लोगों को विदेशों में भेज देते हैं और वहां जाकर लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे एजेंटों की पहचान कर उन पर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

खट्टर ने विदेष मंत्रालय से मांगी मदद

न्यूज एजेंसी वार्ता के अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार प्रदेश के लोगों को पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा साहिब करतारपुर के दर्शन करवाना चाहती है, जिसके लिए हरियाणा को विदेश मंत्रालय की सहायता की जरूरत है। मुख्यमंत्री के आग्रह पर विदेश मंत्री ने उन्हें भरोसा दिलाया कि हरियाणा के लोगों के करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए विदेश मंत्रालय हर संभव मदद करेगा और दरबार साहिब करतारपुर जाने के लिए जो भी औपचारिकताएं होंगी, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाएगा।

निवेश बढ़ाने पर किया विचार

लगभग एक घंटे तक चली इस मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री की विदेश मंत्री के साथ अनेक मुद्दों पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी हरियाणा सरकार प्रदेश के लोगों को दरबार साहिब पटना के दर्शन करवा चुकी है। विदेश मंत्रालय में राज्यों में निवेश को लेकर अतिरिक्त सचिव की अध्यक्षता में गठित सेल का जिक्र करने पर मुख्यमंत्री ने कहा इस सेल के माध्यम से हरियाणा में निवेश के अवसरों को बढ़ावा देने की संभावनाओं को तलाशा जाएगा। साथ ही इस सेल के माध्यम से निवेश के लिए दूसरे देशों में संपर्क भी किया जाएगा। इकॉनोमी डिप्लोमेसी को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश विदेश मंत्रालय का पूरा सहयोग करेगा।

केन्द्रीय खेल राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी मुख्यमंत्री से मुलाकात की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच हरियाणा सहित पूरे देश में खेल और खिलाड़ियों को दी जाने वाली सुविधाओं सहित अन्य विषयों को लेकर चर्चा हुई।

एनआरआई उद्योगपतियों से मुलाकात की

मुख्यमंत्री ने एनआरआई उद्योगपतियों से मुलाकात की। अमेरिका की उद्योगपति प्रिया टंडन ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनकी कम्पनी हरियाणा के करनाल में स्थापित किए जा रहे कल्पला चावला मेडिकल विश्वविद्यालय के साथ मिलकर अत्याधुनिक तकनीक आधारित मशीनों का प्रयोग कर बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध करवाएगी और ऐसी व्यवस्था की जाएगी ताकि किसी भी मरीज या उसके परिजन को लाइन में न लगना पड़े।
खट्टर ने निर्देश दिए कि हरियाणा के साथ लगते हवाईअड्डों पर अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त एंबुलेंस की व्यवस्था की जाए, जिसकी बुकिंग ऑनलाइन भी हो, ताकि दूसरे स्थानों से आने वाले मरीजों और उनके परिजनों को तुरंत स्वास्थ्य सुविधा मिल सके।

कुवैत से आए इंटरनेशनल इंटीरियर्स के प्रबंध निदेशक राजपाल त्यागी व उनकी पत्नी ने मुख्यमंत्री को बताया कि कुवैत में जलपान से लेकर कपड़े आदि जीवनयापन के लिए जरूरी दैनिक वस्तु दूसरे देशों से आयात की जाती हैं। इसलिए कुवैत के अनेक निवेशक हरियाणा में निवेश की संभावनाओं को तलाश रहे हैं। एक बड़े उद्योगपति के. जीवा सागर हरियाणा में निवेश के इच्छुक हैं।