कर्नाटक: जेडीएस ने मांगी 12 लोकसभा सीटें, चंद्रबाबू नायडू की शरण में कांग्रेस

बेंगलुरु 
लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कर्नाटक में जनता दल सेक्‍युलर ने सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। जेडीएस ने लोकसभा चुनाव के लिए इतनी ज्‍यादा सीटें मांग ली हैं कि कांग्रेस पार्टी को उसे देना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है। इस संकट से निपटने के लिए अब कांग्रेस पार्टी को मजबूरन आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, एनसीपी अध्‍यक्ष शरद पवार और जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्‍दुल्‍ला की शरण लेनी पड़ी है। 

कांग्रेस चाहती है कि ये तीनों नेता एनडीए के खिलाफ राष्‍ट्रीय गठबंधन बनाने में आ रही बाधाओं को दूर करने की जिम्‍मेदारी लें। इस पूरे घटनाक्रम से जुड़े लोगों का कहना है कि जहां नायडू ने नेतृत्‍व करने को अपनी स्‍वीकृति दे दी है वहीं तीनों नेता जनवरी के मध्‍य में एक महत्‍वपूर्ण बैठक आयोजित करेंगे जिसमें गठबंधन बनाने के लिए रोड मैप पर चर्चा होगी
कांग्रेस और जेडीएस के बीच पदों का बंटवारा 2:1 के अनुपात में 
टीडीपी के प्रवक्‍ता कमबमपति राममोहन राव ने कहा, ‘क्षेत्रीय दल जितनी सीटों पर समझते हैं कि वे जीत सकते हैं, उतनी सीटें मांगने का उन्‍हें हक है। संभावित गठबंधन सहयोगियों के साथ लोकसभा चुनाव के लिए रोडमैप तैयार करने से पहले इस मुद्दे का समाधान कर लिया जाएगा।’ कर्नाटक में सत्‍तारूढ़ कांग्रेस और जेडीएस के बीच सभी पदों के लिए बंटवारा 2:1 के अनुपात में हुआ है। 

इस फॉर्म्‍युले को अगर लोकसभा चुनाव में लागू किया जाए तो जेडीएस को राज्‍य की कुल 28 में से 10 सीटें ही मिलेंगी। उधर, कुछ समय पहले जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा ने स्‍पष्‍ट किया था कि उनकी पार्टी 12 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उन्‍होंने कहा क‍ि अगर उनकी मांग पूरी नहीं होगी तो राज्‍य में जेडीएस अकेले चुनाव लड़ेगी। उन्‍होंने कहा, ‘यह महत्‍वपूर्ण है कि हम राष्‍ट्रीय गठबंधन में क्षेत्रीय दल के रूप में अपनी क्षमता और पहचान बनाए रखें।’ 

जेडीएस की 12 सीटों की मांग ने कांग्रेस को संकट में डाला 
देवगौड़ा ने कहा, ‘यह लेने और देने का मामला है और मैं आशा करता हूं कि कांग्रेस इसे समझेगी।’ उन्‍होंने आशा जताई कि 8 जनवरी को संसद का सत्र खत्‍म होने के बाद यह मामला सुलझ जाएगा। जेडीएस की 12 सीटों की मांग ने अब कांग्रेस को संकट में डाल दिया है। यही नहीं गौड़ा चिक्‍काबल्‍लूपुरा सीट से अपने परिवार के सदस्‍य को चुनाव लड़ाना चाहते हैं जबकि वहां से कांग्रेस के दिग्‍गज नेता एम वीरप्‍पा मोइली सांसद हैं। इस बीच मोइली ने इस मुद्दे पर कहा, ‘ऐसी अपेक्षा है कि हरेक पार्टी तर्कसंगत तरीके से सीटों की मांग करेगी। कांग्रेस हाई कमान इस पर अंतिम फैसला करेगा।’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *