सिकंदरा वाटर वर्क्स तक पहुंच गया ‘गंगाजल’, जल्द आगरावासियों का होगा गला तर वाटर वर्क्स तक पहुंचा गंगाजल


आगरा में गंगाजल लाने का प्रोजेक्ट अब अपने अंतिम चरण में है। सोमवार को गंगा का पानी सिकंदरा स्थित वाटर वर्क्स में पहुंच गया। पानी के वाटर वर्क्स के प्लांट में पहुंचते ही जल निगम और जलकल विभाग के अधिकारियों के चेहरे खिल गए। अभी करीब एक सप्ताह तक प्लांट की सफाई का काम चलेगा। 
बुलंदशहर के पालड़ा फाल से सिकंदरा तक गंगाजल की प्रक्रिया में लाइनों की टेस्टिंग का काम चल रहा था। पिछले सप्ताह पानी सिकंदरा पर बनाए गए
प्रेशर ब्रेकिंग टैंक तक पहुंच गया था। लेकिन तीन एयर बैंड में कुछ तकनीकी खामी आने की वजह से परेशानी हो रही थी। 
गंगाजल प्रोजेक्ट की टीम एयर बैंड ठीक करने की प्रक्रिया शुरू की तो एक बैंड पर मथुरा के ग्रामीणों ने हंगामा कर दिया। इस विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने मथुरा के एसएसपी से वार्ता की। पुलिस की सुरक्षा में बैंड को दुरुस्त किया। 
गंगाजल की धारा देख खिले चेहरे
सोमवार को सुबह गंगाजल प्रेशर ब्रेकिंग टैंक से सिकंदरा में स्थापित 144 एमएलडी वाटर वर्क्स तक पहुंचा गया। यहां वर्तमान में एमबीबीआर प्लांट संचालित है। पुराने 144 एमएलडी का प्लांट अक्टूबर 2016 से बंद था। इसका जीर्णोद्धार कराया गया है। जैसे ही इस प्लांट पर 90 क्यूसेक पानी पहुंचा। वहां मौजूद अधिकारियों, भाजपा विधायक योगेंद्र उपाध्याय और अन्य लोगों को चेहरे खुशी खिल उठे। 
जल निगम के अधिकारियों ने कहा कि अभी करीब एक सप्ताह तक प्लांट की सफाई का काम चलेगा। इसके बाद गंगाजल सिकंदरा वाटर वर्क्स तक लाया जाएगा। इस अवसर पर केके भारद्वाज, ओमप्रताप सिंह, भूपेंद्र ठाकुर, सुनील कर्मचंदानी, दिलीप वर्मा, मनोज वर्मा, संजय जैन, वात्सल्य उपाध्याय, ओमप्रकाश धाकड़, राजेश प्रजापति, सुनील उपाध्याय, सियाराम प्रजापति आदि मौजूद रहे। 
यमुना जल से कई गुना साफ पानी 
सिकंदरा वाटर वर्क्स में यमुना का जल शुद्ध किया जा रहा है। यमुना का जो पानी सिकंदरा वाटर वर्क्स में पहुंच रहा है, उसकी तुलना में गंगाजल कई गुना शुद्ध था। लोगों के मुताबिक एक दम पारदर्शी था। जब पानी प्लांट में और शुद्ध होगा तो उसकी क्वालिटी और भी बेहतर हो जाएगी। यमुना के ट्रीटेड पानी में गंगाजल मिला दिया जाएगा तो शहरवासियों को शुद्ध पानी मिलेगा। 
वितरण को लेकर गंभीर नहीं अधिकारी
बड़ी मुद्दत के बाद गंगाजल तो शहर तक आ गया है लेकिन इसके वितरण के अधिकारी गंभीर नहीं हैं। जलकल विभाग की लापरवाही का आलम यह है कि अपनी लाइनों की जांच तक नहीं कर रहा है। ताकि जब गंगाजल आए तो कम से कम जिन लोगों तक फिलहाल पानी पहुंच रहा है उन्हें गंगाजल मिल सके। विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने कहा कि अधिकारियों को वितरण की व्यवस्था के प्रति गंभीर होना पड़ेगा, तभी शहर को गंगाजल का लाभ मिल पाएगा। 
अब लोकार्पण का किया जा रहा है प्रयास
गंगाजल आगरा में आने के बाद प्रोजेक्ट के लोकार्पण की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। विधायक योगेंद्र उपाध्याय ने बताया कि प्रोजेक्ट का लोकार्पण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के हाथों कराया जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री से समय मांगा जा रहा है। मुख्यमंत्री से समय मिलते ही गंगाजल प्रोजेक्ट का लोकार्पण कराया जाएगा।  आगरा से श्रीकांत मिश्रा
द न्यूज़ लाइट ,संवाददाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *