मोदी का दिवाली तोहफा! 41 हजार आशा कार्यकर्ताओं की सैलरी बढ़ी, नवंबर में मिलेगा बढ़ा पैसा

केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना का फायदा ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंताने के लिए आशा कार्यकर्ताओं का निगरानी यात्रा भत्ता 5000 रुपये से बढ़ाकर 6000 रुपये तक प्रति माह कर दिया है.

केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना का फायदा ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंताने के लिए आशा कार्यकर्ताओं का निगरानी यात्रा भत्ता 5000 रुपये से बढ़ाकर 6000 रुपये तक प्रति माह कर दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अध्यक्षता में हुई सीसीईए के बैठक में यह मंजूरी मिली है.आपको बता दें कि आशा कार्यकर्ता प्रति माह तकरीबन 20 निगरानी यात्राएं करती हैं. इसके अनुसार उन्हें अभी तक 5000 रुपये तक प्रति माह निगरानी यात्रा भत्ता मिल रहा था जो अक्टूबर 2018 से 1000 रुपये बढ़कर 6000 रुपए तक हो जाएगाा. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी देते हुए बताया कि अक्टूबर 2018 से आशा कार्यकर्ताओं को निगरानी यात्रा भत्ते के तौर पर 250 रुपए प्रति यात्रा से बढ़ाकर 300 रुपये प्रति यात्रा कर दिया है .नवंबर में मिलेगी बढ़ी सैलरी- आशा कार्यकर्ताओं को नवंबर 2018 में बढ़ा हुआ यात्रा भत्ता मिलेगा. यह मंजूरी 2018-19 से 2019-20 तक के लिए दी गई है. प्रसाद ने बताया कि प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में आशा कार्यकर्ता सुविधा प्रदान कराती है. इस बढ़ोतरी से इन कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा और वे अपना काम बेहतर तरीके से कर पाएंगे. केंद्र सरकार पर इस फैसले से 46.95 करोड़ रुपये का अतिरिक्त भार आएगा. देश में 41 हजार 405 आशा कार्यकर्ता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *