स्कूलों में पोशाक वितरण में हुये कथित घोटाले के खिलाफ ज्ञापन को लेकर जो शिवपुरी की कलेक्ट्रेट पर हुआ अफसोसनाक

शिवपुरी कक्षा1 से8 तक सरकारी स्कूलों में वितरित होने वाली पोशाक में घोटाले को लेकर शहर में आज दिन भर हंगामा होता रहा.कहा जा रहा है जिले में पोशाक वितरण के लिये 10 करोड़ की राशि आई हुई है.ये तो जगजाहिर है कपड़े की गुणवत्ता और मूल्य का आंकलन कोई नहीं कर सकता.जब थोक में काम किया जाये.बात अंदर से बाहर तभी आती है जब भेद देने वाला कोई अंदर वाला ही हो. या फिर बंदरबांट में हिस्सेदारी न मिले.
आज के समय ईमानदारी नाम केवल किताबों में रह गया है. जिसको जहां मौका मिलता है चूना लगा रहा.

आज शिवपुरी जिलाधीश कार्यालय में ज्ञापन देने गये अभाविप के छात्र और जिलाधीश महोदया के बीच जो हुआ दुखद है, छोटी सी बात को इतना तूल दे दिया कि पत्रकार जगत को दिनभर के लिये विषय मिल गया. शायद दोनों पक्षों के बीच ईगो ही था जो दिन भर दीवार बनकर खड़ा हो गया.कुछ भी हो अगर गणवेश जो वितरित की जानी है स्कूलों में अगर उसकी गुणवत्ता खराब है तो उन बेईमानों की खैर नहीं क्यों कि घटना ने तूल पकड़ लिया है और चुनाव सर पर हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *