ग्वालियर गजराजा मेडीकल कॉलेज में छात्र की कॉपी के पेज बदले

जीवाजी यूनिवर्सिटी में एमबीबीएस के छात्र की कॉपी के पेज बदले

ग्वालियर के जीवाजी यूनिवर्सिटी में पीएमटी घोटाले जैसी गड़बड़ी पकड़ में आई है. इसमें जीआरएमसी यानि की गजराराजा मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस के एक छात्र की कॉपी के पेज ही बदल दिए गए. एक ही विषय की दोनों कॉपियां चेक की गईं तो पता चला दोनों में हैंडराइटिंग अलग-अलग है. जांच में यह भी पता चला कि एक कॉपी में दूसरे पेज लगाए गए हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच समिति ने इसे पुलिस को सौंपने की अनुशंसा की है. जिस छात्र की कॉपी में गड़बड़ी पकड़ी गई है, वह ओल्ड कोर्स का छात्र है और किसी वजह से पहले परीक्षा नहीं दे पाया था, इसलिए उसने फरवरी में परीक्षा दी थी.जीआरएमसी के छात्र प्रवीण ने रोल नंबर 47154 पर एमबीबीएस फर्स्ट प्रोफ में बायोमिस्ट्री के दो पेपर दिए थे. यह कॉपी चेक होने पहुंची तो पता चला कि दोनों कॉपियों में छात्र की हैंड राइटिंग अलग-अलग है लेकिन हस्ताक्षर एक जैसे ही हैं. परीक्षकों ने देखा कि सेकंड पेपर में मात्र 2 नंबर हैं और फर्स्ट पेपर में पूरा पेपर सॉल्व किया गया है. दोनों कॉपियों का मिलान कराया गया तो हैंडराइटिंग अलग मिली.

क्या सिंधिया सही सोच रहे, सत्ता में नई उमर की भागीदारी बढ़नी चाहिये

क्या वाकई अब राजनीतिक दलों को नई पीढ़ी को मौका देना चाहिये.
1980 में संजय गांधी ने एक प़योग किया था कांग़ेस को नई नवयुवा पीढ़ी देकर कांग़ेस का कायाकल्प कर दिया था. वही पीढ़ी अब तक कांग़ेस को ढोती रही. अब कांग़ेस को पुनः एक प़योग करने की जरुरत है फिर से नई उर्जा को मौका देने की.वही पुराने थके हुये चेहरे अब कांग़ेस के रथ को नहीं हांक सकेंगे. जनता भी वही पुराने चेहरे देख देख उक्ता गई है ,पुराने चेहरों की छवि भी ठीक नहीं है क्योंकि जिन्होनें सत्ता सुख एक बार भोग लिया तो उनके जहन से अहंकार का टोपा उतरता नहीं है.
अभी हाल ही में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक ब्यान दिया है कि

“60 साल जिनकी उमर हो चुकी है आने वाले मध्यप़देश के विधानसभा चुनाव में टिकिट की जिद न करें.”

सही भी है जहां शरीर में उर्जा ही नहीं वो क्या खाक जनता की सेवा करेगा.
दूसरे नई पीढी आधुनिक टेक्नोलोजी के ज्ञान से भरपूर है, अगर उसको मौका दिया जाये तो वह लगन और ईमानदारी के साथ काम करेगी.
क्योंकि नया युवा बेईमानी के पुराने दांवपेंच नहीं जानता है.
दूसरी तरफ भाजपा है जो 1989-90 की युवा पीढ़ी का सहारा लेकर आज सत्ता में काबिज है.
राममंदिर आंदोलन में भाग लेने वाली पीढ़ी अब थक चुकी है.
जो सत्ता में काबिज हैं सुख भोग रहे उनमें से अधिकतर की छवि जनता में ठीक नहीं.
यदि भाजपा फिर से मध्यप़देश में काबिज होना चाहती है तो उसको भी पुराने और थके हुये चेहरों को बाहर का रास्ता दिखाना होगा.
परिवर्तन का युग है अब समय आ गया है सत्ता की बागडोर नई पीढ़ी को सौंप देना चाहिये.
दिल्ली विधानसभा इसका उदाहरण है.

सिरफिरेे आशिक ने भोपाल में एक मॉडल को बंधक बनाया, मामला इकतरफा प़ेम का

मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मिसरौद इलाके में पिछले सात घंटे से एक सिरफिरा आशिक एक लड़की को बंधक बनाए हुए है। उसने खुद को लहुलूहान भी कर लिया है। पुलिस के मुताबिक युवती बेहोश है। आरोपी रोहित यूपी के अलीगढ़ का रहने वाला है। पीड़‍ित लड़की मॉडलिंग का काम करती है और पुलिस उसे बचाने के लिए प्रयास कर रही है। आरोपी युवक विडियो कॉल करके अपनी बात रख रहा है। उसके पास कट्टा और कैंची है।

बताया जा रहा है कि पीड़‍ित लड़की बीएसएनएल के पूर्व एजीएम की बेटी है। पूरा मामला एकतरफा प्रेम का है और आरोपी लड़की के साथ शादी करना चाहता है। वह खुद को गोली मारने की धमकी दे रहा है। पुलिस ने बताया कि रोहित मिसरौद थाने के सामने बिल्डिंग पर 5वीं मंजिल के फ्लैट पर मॉडल युवती को बंधक बनाए हुए है।

जानकारी के मुताबिक अलीगढ़ का रहने वाला रोहित मुंबई में मॉडलिंग का काम करता है। मुंबई में ही उसकी लड़की से मॉडलिंग के दौरान मुलाकात हुई थी। वह शुक्रवार सुबह 7 बजे से मॉडल लड़की को बंधक बनाए हुए है। पुलिस लड़की को छुड़ाने के लिए प्रयास कर रही है। रोहित लगातार पुलिस के साथ विडियो कॉलिंग करके बात कर रहा है।

लड़की से हुआ था विवाद

उसने पुलिस को बताया है कि लड़की से उसका विवाद हुआ था और इसी वजह से उसने बंधक बनाया है। वह धमकी दे रहा है कि अगर कोई उसके पास आया तो वह खुद को और लड़की को गोली मार देगा। उधर, बंधक बनने की खबर आने के बाद बिल्डिंग के आसपास स्‍थानीय लोगों और मीडिया की भारी भीड़ जमा हो गई है। पुलिस के मुताबिक जनवरी में भी लड़की के परिवार की ओर शिकायत दर्ज कराई गई थी। उसके खिलाफ जनवरी में मुकदमा भी दर्ज किया गया था। पुलिस ने उसे अप्रैल में गिरफ्तार भी किया था।

आरोपी का कहना है कि वह शादी करने आया है लेकिन उसे रोक दिया गया। प्रत्‍यक्षदर्शियों के मुताबिक जिस कमरे में वह है, उसमें खून भी बिखरा दिखाई दे रहा है। लड़का नशे में है। उसने लड़की और एक पुलिसकर्मी को घायल कर दिया है। पुलिस के आला अफसर उससे बात करने का प्रयास कर रहे हैं। बिल्डिंग के पांचवें फ्लोर को खाली कराया गया है।

युवती ने घर का दरवाजा खोलकर युवक को अंदर बुलाया
युवती के परिजनों के मुताबिक युवती ने सुबह 6 बजे घर का दरवाजा खोलकर युवक को अंदर बुलाया था। उसके बाद युवक ने खुद को बंद कर लिया है। वह युवती को जबरन मुंबई ले जाना चाहता है। पुलिस का मानना है कि युवकमनोरोगी लग रहा है। उसने एक विडियो जारी कर कहा है कि पुलिस ने उसके और लड़की पर हमला किया है। विडियो में कमरे में खून पसरा दिखाई दे रहा है।

सोशल मीडिया पर नियंत्रण करने से भारत ‘निगरानी राज्य’ बन जाएगा: सुप्रीम कोर्ट

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित इस कदम के तहत, डिजिटल और सोशल मीडिया कंटेंट को इकट्ठा किया जाएगा और फिर जिले स्तर पर इसका विश्लेषण किया जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा है कि अगर सरकार सोशल मीडिया की कंटेंट पर नजर रखे और रेगुलेट करे तो भारत एक सर्विलेंस स्टेट(निगरानी राज्‍य) बन जाएगा. दरअसल सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय एक सोशल मीडिया कॉम्यूनिकेशन हब बनाने जा रही है. केन्द्र सरकार के इस फैसले को तृणमूल कांग्रेस(टीएमसी) की विधायक महुआ मोइत्रा ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है.इस याचिका की सुनवाई जस्टिस दीपक मिश्रा,जस्टिस ए एम खानविलकर और डी वाई चंद्रचूड की बेंच कर रही है. जस्टिस डीवाई चंद्रचूड ने कहा, ”सोशल मीडिया के कंटेट पर नजर रखने और रेगुलेट करने से ये देश सर्विलेंस स्टेट(निगरानी राज्‍य) बन जाएगा.”

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित इस कदम के तहत, डिजिटल और सोशल मीडिया कंटेंट को इकट्ठा किया जाएगा और फिर जिले स्तर पर इसका विश्लेषण किया जाएगा.महुआ मोइत्रा की ओर से वरिष्ठ वकील एएम सिंघवी ने कहा कि सरकार के इस कदम से गोपनीयता के अधिकार का पूरी तरह से उल्लंघन होगा. साथ ही मौलिक अधिकारों पर भी ये हमला है.सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने केंद्र सरकार को दो सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा है. ये बेंच इस मामले की जांच करने के लिए तैयार हो गई है. साथ ही इस बेंच ने अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल की सहायता मांगी है.व्हाट्सएप लाइसेंसिंग पॉलिसी से संबंधित एक और मामला न्यायालय में भी लंबित है. इसमें भी ये प्रस्ताव रखा गया है कि सर्विस देने वाली कंपनी पहले मैसेज देखेगी और फिर आगे भेजेगी.

जिले का पहला चलित थाना कल टीला में लगाया जाएगा ,पुलिस कप्तान की नई पहल

शिवपुरी। नवागत पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार हिंगणकर में चलित थानों की शुरुआत करने जा रहे है। शिवपुरी जिले में पहला चलित थाना 14 जुलाई शनिवार के दिन करैरा थाना क्षेत्र के ग्राम टीला के स्कूल केपस में प्रात: 11 बजे से लगाया जिसमें शिकायकर्ताओं की की समस्याओं को सुनकर उनका मौके पर ही निराकरण किया जायेगा। इस चलित थाने में ग्राम टीला के सीमावर्ती ग्राम काली पहाड़ी, निचरौली, खैराई तथा जुझाई के आवेदक गणों को बुलाया गया है। इस चलित थाने में शिकायकर्ता की पीड़ा को सुनने के लिए पुलिस अधीक्षक राजेश हिंगणकर के अलावा एएसपी कमल मौर्य, एसडीओपी करैरा बद्री प्रसाद तिवारी, करैरा टीआई प्रदीप बाल्टर एवं इस क्षेत्र का बीट प्रभारी उपनिरीक्षक मौजीलाल वर्मा भी मौके पर मौजूद रहेगें।
यह बता दें कि एसपी श्री हिंगणकर ने शिवपुरी जिले में पदभार ग्रहण करने से पूर्व ही मीडिया के माध्यम से जिलेवासियों को संदेश दिया था कि जल्द ही पुलिस उनके बीच आकर समस्याओं का निराकरण करेगी। गौरतलब है कि एसपी श्री हिंगणकर इससे पूर्व कटनी पदस्थापना के दौरान 93 चलित थानों की शुरुआत की थी। जबकि धार में 43 एवं सतना डकैत बाहुल्य क्षेत्र होने के कारण वे यहां 15 चलित थानों की शुरुआत ही कर सके थे। सशक्त पुलिसिंग के लिए अलग पहचान रखने वाले श्री हिंगणकर शिवपुरी में जनता से सीधा संवाद कायम कर पीडि़तों को न्याय दिलाने की हुंकार भर रहे है। बताया जाता है कि अब से पूर्व जिले में चलित थानों की शुरुआत पहले कभी नहीं की गई। चलित थानों के जरिये
जिलेवासियों को सीधा संवाद होने से नवागत पुलिस अधीक्षक का खुद का एक अलग नेटवर्क खड़ा होगा। साथ ही पुलिस का मुखबिर तंत्र भी मजबूत होगा। जिससे पुलिस को छुटभईया गिरोह के मूवमेंटों की जानकारी भी लगेगी।
शिकायतें लेकर मुख्यालय तक नहीं आना पड़ेगा लोगों
नवागत पुलिस अधीक्षक द्वारा जो चलित थानों की शुरुआत कर जा रही है। उससे ग्रामीण अंचल के शिकायकर्ताओंं की समस्याओं का मौके पर निराकरण तो होगा ही, साथ ही हर मंगलवार को जनसुनवाई में अपनी शिकायत लेकर पहुंचने वाले आवेदकों की सख्ंया में भी कमी आयेगी। चलित थानों में पुलिस अधीक्षक के समक्ष सुनवाई के दौरान वे पुलिसकर्मी भी वेनकाब होगें जो वेवजह ग्रामीणों में पुलिस का खौफ दिखाकर उन्हें परेशान करते है।

फिल्म आपरेशन रेड का आडिशन 15जुलाई को.

शिवपुरी।नील सरोवर फिल्म्स द्वारा बन रही हिंदी फिल्म “ऑपरेशन रेड” का ऑडिशन शिवपुरी शहर में 15 जुलाई को **शिवपुरी होटल** में रखा गया है!ऑडिशन में अधिक से अधिक कलाकारों के आने की संभावना है . निर्माता कामता प्रसाद रंगीला ने बताया गया कि यह फिल्म की शूटिंग शिवपुरी मे की जायेगी. जिसमें अधिकतर स्थानीय कलाकारों को अवसर प्रदान किया जाएगा! साथ ही शहर के सुंदर पर्यटक स्थलों व लोकेशन को विशेष महत्व दिया जाएगा! जो फिल्म मुंबई में बहुत बड़े बजट में बनती हैं उन्हीं के समकक्ष हिंदी फीचर फिल्म स्थानीय कलाकारों को लेकर कम से कम बजट में बनाई जाएगी!जो कि एक नया प्रयोग होगा! इस फिल्म के डायरेक्टर डीके सिंह (भोपाल ), कास्टिंग डायरेक्टर विनोद यादव, एसोसिएट डायरेक्टर गंगा प्रसाद कुशवाह, क्रिएटिव डायरेक्टर:- सूर्या मल्होत्रा, विशेष सहयोग भूपेंद्र विकल एवं बलराम शर्मा का है.साथ ही 18 फिल्मकारों की टीम इस फिल्म के निर्माण मे संलग्न है.
निर्माता कामता प्रसाद रंगीला ने बताया कि प्री प्रोडक्शन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है कोई भी इच्छुक कलाकार ऑडिशन प्रक्रिया में भाग ले सकता है!

योगेंद़ यादव के परिवार के ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा,27 लाख नगद जब्त

आयकर विभाग ने योगेंद्र यादव के परिवार के ठिकानों से 27 लाख रुपए नगद ज़ब्त किए
आयकर विभाग ने स्वराज इंडिया पार्टी के नेता योगेंद्र यादव की बहन के अस्पताल और अन्य ठिकानों पर छापा मारा था. इस दौरान 15 करोड़ के लेन-देन के कागज़ भी ज़ब्त हुए हैं

आयकर विभाग ने स्वराज इंडिया पार्टी के प्रमुख और आम आदमी पार्टी (आप) के पूर्व संस्थापक नेता योगेंद्र यादव के परिवार के ठिकानों से लगभग 27 लाख रुपए नगद ज़ब्त किए हैं. विभाग ने कुछ अन्य दस्तावेज़ भी अपने कब्ज़े में लिए हैं. आयकर विभाग के सूत्रों के हवाले से द इकॉनॉमिक टाइम्स में छपी ख़बर से यह ख़ुलासा हुआ है.

आयकर विभाग ने छापामारी के दौरान 15 करोड़ रुपए के लेन-देन के कागज़ भी ज़ब्त किए गए हैं. एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी के अनुसार इस लेन-देन को संदिग्ध माना गया है. आयकर विभाग ने बुधवार की सुबह योगेंद्र यादव की बहन के रेवाड़ी स्थित अस्पताल और उनसे जुड़े कुछ अन्य स्थानों पर छापा मारा था. छापे की कार्रवाई की अगले दिन भी चलती रही. हालांकि अब बताया जाता है कि यह पूरी हो गई है. इस बाबत एक आयकर अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि छापे के दौरान यह भी पता चला है कि यादव की बहन और उनसे जुड़े लोगों ने चंडीगढ़ में 93 लाख रुपए की काली कमाई से एक प्लॉट भी ख़रीदा था.

हालांकि इस पूरी कार्रवाई को यादव ने बदले की राजनीति बताया है. उन्होंने बुधवार की रात को ही इस बाबत ट्वीट किया था. इसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार उनके परिवार को निशाना बना रही है. उनके मुताबिक उन्होंने किसानों को फसलों का उचित मूल्य दिलाने के लिए जो आंदोलन शुरू किया उसका दमन करने के लिए मोदी सरकार ऐसे क़दम उठा रही है. इस मामले में योगेंद्र यादव को उनके पूर्व सहयोगी, आप संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का भी समर्थन मिला है. केजरीवाल ने कहा, ‘हम इस कार्रवाई की सख़्त शब्दों में करते हैं. मोदी सरकार को बदले की ऐसी राजनीति रोकनी चाहिए.’

गीता को पाठ्यक़म में शामिल करने की याचिका छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने स्वीकारी

श्रीमद्भागवत गीता को सिलेबस में शामिल करने की याचिका हाई कोर्ट में स्वीकार
याचिका में कहा गया है कि श्रीमद्भागवत गीता एक ऐसा ग्रन्थ है, जिसमें मानव जीवन के सभी पहलुओं को विस्तार से बताया गया है. गीता में जन्म से लेकर मरण तक का उपदेश है.

छत्तीसगढ़ की बिलासपुर हाई कोर्ट ने श्रीमद्भागवत गीता को स्कूल और कॉलेज के पाठ्यक्रमों में शामिल करने की जनहित याचिका को चीफ जस्टिस के डिवीजन बैंच ने स्वीकार कर लिया गया है. मामले में सभी पक्षकारों को नोटिस जारी कर 4 सप्ताह में जवाब देने कहा गया है, जिन्हें नोटिस जारी किया गया है, उनमें यूजीसी, मानव संसाधन विभाग और अखिल भारतीय विश्वविद्यालय संगठन हैं.बता दें कि तीन अलग-अलग संस्थाओं ने श्रीमद्भागवत गीता को स्कूल और कॉलेजों के पाठ्यक्रमों में शामिल करने जनहित याचिका बिलासपुर हाई कोर्ट में लगाई गई थी. इसमें अखिल भारतीय मलयाली संघ के सोमन के मेमन, वीर वीरांगना संस्था की चंद्रप्रभा समेत अन्य शामिल हैं.

याचिका में कहा गया है कि श्रीमद्भागवत गीता एक ऐसा ग्रन्थ है, जिसमें मानव जीवन के सभी पहलुओं को विस्तार से बताया गया है. गीता में जन्म से लेकर मरण तक का उपदेश है.प्रारंभिक सुनवाई में कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को कहा था कि संबंधित विभागों को आवश्यक पक्षकार बनाएं. बहस के दौरान याचिकाकर्ताओं के अधिवक्ता से पिछली सुनवाई में पूछा गया था कि यदि कुरान और बाईबिल को भी पाठ्यक्रमों में शामिल करने कि मांग उठेगी फिर क्या होगा? इस पर याचिककर्ताओं ने कहा कि कुरान और बाईबिल अलग धार्मिक ग्रन्थ है. जबकि श्रीमद्भागवद गीता मन की शक्ति को जागृत करने वाला है. कोर्ट में याचिकाकर्ताओं ने श्रीमद्भागवत गीता के कुछ अंश भी सुनाए थे.

14 से जनता का आशीर्वाद लेने निकलेंगे शिवराज, रथ तैयार

5 साल पहले भी शिवराज सिंह ने महाकाल मंदिर में पूजा के बाद अपना अभियान शुरू किया था.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा के लिए दो चुनावी रथ भोपाल पहुंच चुके हैं. बीजेपी ऑफिस में इस रथों का पूजन हो रहा हैं. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह 14 जुलाई को उज्जैन में शिवराज के रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे.सीएम शिवराज सिंह चौहान महाकाल का आशीर्वाद लेने के बाद जनता का आशीर्वाद लेने निकलेंगे. चुनाव से पहले इस हाईटैक रथ पर सवार होकर बीजेपी के प्रचार के लिए निकलेंगे.उनकी यात्रा 55 दिन चलेगी. जो प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों से होकर गुज़रेगी. यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री रथ और मंच सभाओं को मिलाकर लगभग 700 सभाओं को संबोधित करेंगे.

शिवराज सिंह की इस यात्रा के लिए दो रूट बनाए गए हैं. एक रूट में विंध्य, बुंदेलखंड और महाकौशल को रखा गया है. दूसरे भाग में भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर-चंबल और मालवा-निमाड़ क्षेत्र हैं.
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान हफ्ते में 4 दिन यात्रा पर रहेंगे.दो दिन एक हिस्से में और दो दिन प्रदेश के दूसरे हिस्से में जनता के बीच जाएंगे. यात्रा 25 सितंबर को भोपाल आकर ख़त्म होगी. यहां कार्यकर्ता का महाकुंभ किया जाएगा.कांग्रेस ने सीएम शिवराज सिंह चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा को ढकोसला बताया है. पार्टी विधायक जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि सरकारी खर्चे पर आशीर्वाद यात्रा निकाली जा रही है. उन्होंने BJP सरकार से बीते 5 साल के कामकाज का ब्यौरा मांगा.