मध्य प्रदेश  के गुना शहर में नाबालिग लड़की की संदेहास्पत मौत

युवती कम्मो केवट पुत्री सीताराम केवट निवासी बरवटपुरा का शव फईम खान राजस्थान टायर के घर से संदिग्ध परिस्थितियों में मिलने से हंगामा खड़ा हो गया है,ऐसा सूत्रों के हवाले से खबर मिली है। युवती फईम के घर झाडू पौंछे का काम करती थी । कुसमौदा पुलिस चौकी से महज तीस फुट दूर है घटनास्थल। फईम का दावा है युवती ने फांसी लगाई है । जबकि युवती के पिता का आरोप है, मेरी बच्ची की हत्या हुई है। सीताराम जब फईम खान के घर पहुंचा कम्मो की लाश बरामदे मे रखी थी । पास ही पुलिस चौकी है लेकिन चौकी पर कोई सूचना नहीं दी गई थी । मामले को दबाने का प़यास हुआ था ऐसा जान पड़ता है।
घटना दोपहर एक बजे की है । युवती के शव का पीएम होगा । जिला अस्पताल में जनता का विरोध प्रदर्शन जारी है। एहतियातन भारी पुलिस बल की तैनातीी जिला प़शासन और पुलिस के द्वारा की गई है।
खबर लिखे जाने तक ऐतिहातन तौर पर इंटेरनेट सुविधा बंद कर दी गयी है!!

शिवपुरी शहर में सूदखोरों का मकड़जाल

**करुणेश शर्मा की कलम से**

शिवपुरी शहर शिवपुरी शहर का व्यापारी चाहे वह उच्च वर्ग व्यापारी हो मध्यम वर्ग का व्यापारी हो या निम्न वर्ग का व्यापारी हो ज्यादातर सूदखोरों के चुंगल में फंसा हुआ है सूदखोर 3% से लेकर 10% ब्याज दर पर कर्जा बाजार में साइन किए हुए चेक एवं गुंडे गिरवी रख कर देते हैं इन सूदखोरों पर कोई वैधानिक लाइसेंस नहीं है इन पर कभी भी किसी प्रकार की कार्यवाही पुलिस द्वारा बहुत कम की गई है आए दिन शहर से बड़े-बड़े व्यापारियों का पलायन हो रहा है कई बार व्यापारी कर्ज के बोझ तले दब कर आत्महत्या तक कर रहे हैं सूदखोरों से पैसा ब्याज पर लेकर वायदा व्यापार जमीन व्यापार एवं मध्यम व्यापार में लगा दिया जाता है अत्यधिक ब्याज होने पर कर्जदार कर्ज अदा नहीं कर पाता जमीन व्यापार में शहर के व्यापारियों का करोड़ों रुपया जाम हो चुका है प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की जन कल्याणकारी नीतियों के लागू होने से रियल स्टेट में मुनाफाखोरों का करोड़ों रुपया जाम हो चुका है क्योंकि प्रधानमंत्री श्री मोदी निम्न आय वर्ग मध्यम आयु वर्ग के लिए बहुत कम दाम पर आसान किस्तों में किस्तों पर लोन बैंकों में उपलब्ध करवाया जा रहा है इससे क्षेत्र की जनता लाभ भी ले रही है एवं गरीब BPL कार्ड वालों को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी दो कि द्वारा मुफ्त मकान दिए जा रहे हैं प्रधानमंत्री की जन कल्याणकारी नीतियों के कारण रियल एस्टेट सेक्टर दम हो चुका है इस कारण शिवपुरी शहर के व्यापारियों का करोड़ों रुपया जाम हो चुका है

श्रीमंत यशोधरा राजे सिंधिया की जनता बिजली विभाग से त्रस्त

शिवपुरी शहर की ग्रामीण एवं शहरी जनता बिजली विभाग के रवैया से बहुत परेशान है बिजली विभाग द्वारा एवरेज बिल के नाम पर बड़े-बड़े बिल गरीब जनता को थमाए जा रहे हैं जनता की सुनवाई करने वाला कोई जवाबदार अधिकारी बिजली विभाग में नहीं है कस्टम गेट स्थित कार्यालय में परेशान जनता को देखा जा सकता है जब विभाग ने नए मीटर लगवा दिए हैं तो रीडिंग के आधार पर बिल दिए जाने चाहिए एवरेज के नाम पर गरीब जनता को बड़े बिल थमाए जा रहे हैं जब ग्राहक सुनवाई के लिए विभाग में जाता है तो एक बाबू बिल में सुधार करता है जो बहुत कम रकम कम करता है बिल जमा न करने पर अगले बिल में फाइन के साथ जुड़कर रकम आ जाती है जिससे गरीब ग्राफ को चुकाना मुश्किल हो जाता है और गरीब ग्राहक पर दिल का बोझ बढ़ता चला जाता है कुछ अवधि के बाद कनेक्शन विभाग द्वारा काट दिया जाता है बिल कम करने के नाम पर विभाग द्वारा एक दिन निश्चित किया जाता है किंतु उसमें ऐतिहासिक भीड़ होती है जिससे किसी की भी समस्या का समाधान ना के बराबर होता है जबकि बिजली के बड़े-बड़े बकायादार पर कार्रवाई होती नहीं देखी गई नए मीटर लगाने के नाम पर जनता को विभाग द्वारा वैसे भी आर्थिक व मानसिक परेशान पहले ही किया जा चुका है जब मीटर नया है तो एवरेज बिल की क्या आवश्यकता है यह विचारणीय प्रश्न है श्रीमंत यशोधरा राजे सिंधिया से अनुरोध है कि इस समस्या का निदान अधिकारियों से विचार विमर्श की शेयर करें जिससे क्षेत्र की जनता को राहत मिले.
**करुणेश शर्मा की कलम से **

हर दिन बढ़ रहा है ग्वालियर में प्रदूषण का लेवल

विश्व का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर होने का तमगा गलती से हासिल करने वाला ग्वालियर की हवा पिछले 15 दिन से प्रदेश में सबसे ज्यादा दूषित है
गत 14 जून से 28 जून के बीच प्रदेश में 51 जिलों के प्रदूषण की लिस्ट में ग्वालियर टॉप पर चल रहा है.
14 जून से पहले तक भोपाल का इंडस्ट्रियल एरिया मंडीदीप इस लिस्ट में टॉप पर था
गत 27 व 28 जून को ग्वालियर में बारिश होने के बावजूद हवा में मौजूद प्रदूषण में कोई कमी नहीं आई है

151 तक पहुंची हवा में धूल कणों की संख्या जबकि इसे 100 के नीचे रहना चाहिए

133 तक पहुंचा एयर क्वालिटी इंडेक्स जबकि इसे भी 100 के नीचे रहना चाहिए

राजस्थान की धूल और शहर के वाहनों के कारण बढ़ रहा है प्रदूषण
क्योंकि ग्वालियर राजस्थान से लगा हुआ इलाका है इसलिए राजस्थान की तरफ से आने वाली धूल भरी गर्म हवाओं के साथ ही शहर में वाहनों का कारण प्रदूषण की स्थिति में यह बदलाव हो सकता है !!
ग्वालियर में प्रदूषण की रेटिंग के लिए दो सपोर्ट किए गए हैं जिसमें महाराज बाड़ा और दीनदयाल नगर में प्रदूषण की रीडिंग ली जाती है निर्माण कार्य न चलने और इंडस्ट्रियल एरिया भी इसमें शामिल ना होने के कारण शहर में ज्यादातर प्रदूषण सिर्फ वाहनों के कारण हो रहा हैँ

LIC को दिवालिया बनाने की कवायद ? कहीं डूब न जाए आपकी जमा-पूंजी

कंगाल हो चुकी IDBI को आपके ही प्रीमियम के सहारे उबारेगी LIC

नई दिल्ली।अगर आपने अपनी जमा पूंजी LIC में लगा रखी है तो आपके लिए यह चिंताजनक खबर हो सकती है। इसलिए, क्योंकि केंद्र सरकार देश में सबसे कंगाल बैंक IDBI को LIC के हवाले करने जा रही है। इसके लिए LIC को 2.1 लाख करोड़ रुपए जुटाने होंगे और यह पैसा आपके द्वारा जमा किए गए प्रीमियम की रकम से ही आएगा। अब शुक्रवार को इस मामले में बीमा नियामक आयोग अपना फैसला देगा।

IDBI इस समय एनपीए से जूझ रही सबसे खस्ताहाल बैंक है। सरकार इस बैंक को कंगाली से बचाने की कोशिश में है। इसके लिए सरकार ने 2.1 लाख करोड़ के रीकैपिटेलाइजेशन को मंजूरी दी है। इस कवायद का मकसद ही यही है कि किसी तरह IDBI को डूबने से बचाया जाए। सरकार के इस कदम से IDBI की माली हालत तो सुधर जाएगी, लेकिन इससे LIC के कंगाल हो जाने की आशंका ज्यादा है। यानी अगर ऐसा होता है तो देश के लाखों निवेशकों का पैसा डूब सकता है।

पल्ला झाड़ने की कोशिश

अभी IDBI बैंक में केन्द्र सरकार की 85 फीसदी हिस्सेदारी है. सरकार ने बैंक की मदद करने के लिए 10,610 करोड़ रुपये डाला है. लेकिन दिक्कत यह है कि केंद्र सरकार इस डूबते बैंक से अपनी हिस्सेदारी लगातार कम करने की कोशिश भी कर रही है। इसका मतलब यह हुआ कि वह इस बैंक को LIC के हवाले कर अपना पल्ला झाड़ना चाहती है। इसमें कोई शक नहीं कि LIC के पास इस समय ग्राहकों के प्रीमियम का बहुत सा पैसा यानी कैपिटल है, लेकिन अब सरकार के नए फैसले से LIC के ग्राहकों की जमा पूंजी पर खतरा बढ़ गया है।

पत्रकारों के अपमान के विरुद्ध शिवपुरी के पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन दीया.

शिवपुरी ।एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन जिला इकाई शिवपूरी के समस्त पत्रकारगण मांग करते है कि बरेली में हुए जिस तरह का कृत्य किया गया वह निंदनीय है हम संगठन की ओर से इसकी भर्त्सना करते हैं साथ ही यह मांग करते हैं कि बरेली मंडी सचिव एवं उनके साथ जूलुस में साथ देने वाले शासकीय कर्मियों के खिलाफ उचित कार्यवाही करते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाय ।
जैसा कि आपको विदित है कि किस तरह विगत दिनों बरेली में श्रीमती रितु गढ़वाल द्वारा प्रजातंत्र के चौथे स्तम्भ के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी की गई एवम् शासकीय कर्मचारियों ने उनका साथ देते हुए नारेबाजी की गई है।

जिस तरह शासकीय कर्मचारी ने नियमों का खुला उल्लंघन कर पत्रकारों के लिए जैसा किया भविष्य में वे शेष तीन स्तंभों के लिए भी ऐसा ही कर सकते हैं।
अतः एमपी वर्किंग जर्नलिष्ट यूनियन जिला इकाई शिवपुरी के समस्त पत्रकारों की यह मांग है

कि इस कृत्य पर तत्काल उचित कार्रवाई की जाए ।ज्ञापन देने वालो में MPWJU जिला अध्यक्ष अखिलेश दुबे, प्रांतीय सचिव डॉ. भूपेंद्र विकल ,एवम सभी सदस्य उम्मेद सिंह झा, के.वी.शर्मा लालू, मनीष बंसल, दुर्गेश गुप्ता, साहिल खान ,नीरज गर्ग, इशाक खान ,चिराग गुप्ता ,केदार समाधिया, शलभ तिवारी आदि उपस्थित थे.

सर्जिकल स्ट्राइक का फैसला राजनीतिक नेतृत्व का था: डीएस हुडा

दो साल पहले हुई सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो आने के बाद से विपक्ष और सरकार के बीच बयानबाजी चल रही है. दो दिन पहले ही सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो आया तो कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने सरकार पर इसका राजनीतिक लाभ लेने का आरोप लगाया. लेकिन इस बयानबाजी के बीच सर्जिकल स्ट्राइक की निगरानी करने वाले अफसर पूर्वी नॉर्दर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीएस हुडा ने कहा है कि ये फैसला पूरी तरह से राजनीतिक नेतृत्व का था.
उन्होंने कहा कि इस फैसले पर सेना पूरी तरह से सहमत थी, क्योंकि हम कुछ करना चाहते थे. हुड्डा बोले कि अगर हम भविष्य में भी पाकिस्तान को कड़ा जवाब देना चाहते हैं तो ये हम दोबारा भी कर सकते हैं.
कांग्रेस और सरकार थे आमने-सामने
दरअसल, कांग्रेस की ओर से इस वीडियो की टाइमिंग पर सवाल उठाए गए थे. कांग्रेस का आरोप है कि मोदी सरकार सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण कर रही है. इस पर अब मोदी सरकार और बीजेपी की ओर से पलटवार हुआ है.
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस लगातार सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रही है. इससे पाकिस्तानी आतंकवादियों को खुशी मिल रही होगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक को खून की दलाली कहा था. उनकी माता सोनिया गांधी ने इससे पहले मौत के सौदागर जैसे शब्दों का प्रयोग कर चुकी हैं.
उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद भी सेना पर सवाल उठा रहे हैं और कह रहे हैं कि सेना आतंकवादियों को कम बल्कि नागरिकों को ज्यादा मारते हैं.
कांग्रेस की ओर से रणदीप सुरजेवाला ने कहा था कि बीजेपी ने देश के शहीदों के बलिदान का अपमान किया. उनकी शहादत का लज्जाजनक इस्तेमाल किया. यूपीए कार्यकाल में भी सर्जिकल स्ट्राइक हुई है.
आपको बता दें कि 29 सितंबर 2016 को भारतीय सेना ने पाकिस्तान की सीमा में तीन किमी भीतर जाकर इस सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था.
सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान भारतीय सेना ने रॉकेट लॉन्चर, मिसाइलों और छोटे हथियारों से हमला किया था. यह हमला भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में भारतीय सेना के कैंप हुए आतंकी हमले की जवाबी कार्रवाई के तौर पर किया था. पाकिस्तान की ओर से उरी में 18 सितंबर को हमला किया गया. इस घटना के 11वें दिन बाद सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया.
सर्जिकल स्ट्राइक के होने के बाद कई राजनीतिक दलों और नेताओं ने इसपर सवाल खड़े किए थे और सबूत मांगे थे. हाल ही में कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज की किताब’कश्मीर: गिलम्पसेज ऑफ हिस्ट्री एंड द स्टोरी ऑफ स्ट्रगल’ के विमोचन के मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने सर्जिकल स्ट्राइक को ‘फ़र्जिकल स्ट्राइक’ करार देते हुए आरोप लगाया था कि चीन, पाकिस्तान और बैंक को लेकर मोदी सरकार के पास कोई नीति नहीं है.

वैष्णो देवी की यात्रा आसान बनाएगा RAILWAY, बिहार-यूपी समेत 5 राज्यों के श्रद्धालुओं को होगा फायदा

नई दिल्ली : वैष्णो देवी की यात्रा पर जाने वाले लोगों के लिए खुशखबरी है. माता वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं की यात्रा जल्द ही कुछ आसान हो जाएगी. रेल यात्रियों की की मांग को देखते हुए रेलवे पश्चिम बंगाल के सियालदह से जम्मू तवी के लिए एक हमसफर एक्सप्रेस चलाने की तैयारी कर रहा है. यह ट्रेन तीन जुलाई से चलाई जाएगी. इस ट्रेन का उद्घाटन जम्मू तवी रेलवे स्टेशन से रेल राज्य मंत्री राजेन गोहेन झंडी दिखाकर करेंगे. 

बंगाल, बिहार, झारखंड यूपी और पंजाब से गुजरेगी ट्रेन
इस हमसफर एक्सप्रेस के शुरू होने से पांच राज्यों के लोगों के लिए माता वैष्णो देवी तक पहुंचना आसान हो जाएगा. यह ट्रेन बंगाल, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश व पंजाब हो कर गुजरेगी. इस ट्रेन के शुरू हो होने से माता वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं को काफी राहत होगी. 
इस ट्रेन का चुनावों पर पर भी पड़ेगा असर
ये हमसफर एक्सप्रेस 2019 लोकसभा चुनावों में भी मोदी सरकार की उपलब्धी के तौर पर प्रस्तुत की जा सकती है. ये गाड़ी बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश व पंजाब हो कर गुजरेगी. पिछले लोकसभा चुनावों में जहां भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश व बिहार सीटों के लिहाज से महत्वपूर्ण राज्य थे वहीं इस बार भाजपा बंगाल में भी सेंध लगाने की कोशिश कर रही है. ऐसे में माना जा रहा है कि चुनाव प्रचार के दौरान इस ट्रेन को बड़ी उपलब्धी के तौर पर प्रस्तुत किया जा सकता है. 
इन रेलवे स्टेशनों पर रुकेगी ये ट्रेन 
ये हमसफर एक्सप्रेस जम्मू तवी, जलंधर, अम्बाला, सहारनपुर, मुरादाबाद, लखनऊ, वाराणसी, मुगलसराय, गया, धनबाद, आसनसोल व सियालदह रेलवे स्टेशनों पर ठहरेगी.

एमपी: ‘मामा’ शिवराज के राज में दरिंदगी, मंदसौर में 7 साल की बच्ची से रेप

आरोपी ने पुलिस को बताया की बच्ची को वह स्कूल से मिठाई खिलाने का झांसा देकर अपने साथ ले गया था. बच्ची से दुष्कर्म के बाद वह उसकी हत्या करना चाहता था.
मंदसौर: मामा के नाम से मशहूर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मध्य प्रदेश में एक बार फिर बच्ची के साथ दरिंदगी हुई है. मंदसौर में सात साल की मासूम बच्ची से रेप हुआ है. रेप की घटना के बाद से मंदसौर में तनाव फैला हुआ है. क्लास तीन में पढ़ने वाली बच्ची को मिठाई देने के बाद अगवा किया गया था. फिर उसके साथ रेप किया गया.
रेप के बाद गला काटकर हत्या की कोशिश

सात साल की बच्ची से रेप के बाद गला काटकर हत्या की कोशिश भी की गई. बच्ची के पूरे शरीर को खरोंचा गया है. रेप के बाद बच्ची को खुली जगह पर फेंक दिया गया, जहां वो रात भर खून से लथपथ हालत में भीगती रही. बच्ची की त्वचा भी गल गई है. रात भर की यातना सहने के बाद लडकी दोपहर में जख्मी हालत में लक्ष्मण दरवाजे तक पहुंची, जहां से उसे अस्पताल भेजा गया. आरोपी ने बच्ची को अधमरी हालत में मरा समझकर छोड़ दिया था.

आरोपी को फांसी हो, कब्रिस्तान में नहीं दफनाएंगे- मुस्लिम समाज

आरोपी का नाम इमरान उर्फ भय्यू बताया जा रहा है, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. घटना के बाद मंदसौर में लोग आक्रोशित हैं. मुस्लिम समाज की आक्रोशित महिलाओं ने आरोपी को फांसी की सजा दिया जाने के बाद उसे कब्रिस्तान में ना दफन किए जाने की बात कही है.

स्कूल से अगवा की गई थी बच्ची

दरअसल मंगलवार शाम मंदसौर के हाफिज कॉलोनी स्थित एक निजी स्कूल में पढ़ने वाली ये बच्ची जब घर नहीं पहुंची तो उसके परिजनों उसे ढूंढते हुए स्कूल पहुंचे. जब बच्ची नहीं मिली तो परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी. नाजुक हालत में पीड़िता को एम.वाय हॉस्पिटल इंदौर रेफर किया गया है.

सीसीटीवी फुटेज से दबोचा गया आरोपी

जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज देखी तो आरोपी युवक बच्ची के साथ जाता दिखा. बुधवार रात आरोपी इमरान उर्फ भय्यू को जब पुलिस ने गिरफ्तार किया तो उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया. उसने पुलिस को बताया की बच्ची को वह स्कूल से मिठाई खिलाने का झांसा देकर अपने साथ ले गया था. बच्ची से दुष्कर्म के बाद वह उसकी हत्या करना चाहता था.

कोई वकील नहीं लड़ेगा आरोपी का केस- बार एसोसिएशन

घटना के बाद आक्रोशित लोग मंदसौर की सड़कों पर उतर गए. फिलहाल इलाके में भारी पुलिसबल तैनात कर दिया गया है. उधर घटना से आक्रोशित शहर के बार एसोसिएशन ने यह फैसला किया है कि आरोपी की तरफ से मंदसौर का कोई भी वकील पैरवी नहीं करेगा.