सिंधिया को मध्यप़देश में अहम पद न देने से पार्टी कमजोर हुई, अप़त्यक्ष रुप से शिवराज को फायदा.

राहुल ने मप़़ मे शिवराज को मजबूत किया

कमलनाथ को मप़ मे अध्यक्ष बनाकर राहुल ने बीजेपी को मजबूत स्थिती मे कर दिया हैै। जबकी ज्योतिरादित्य सिंधिया को मप़ की कमान अगर मिलती तो नतीजे कुछ और होते। सिंधिया जी का मप़़ मे मजबूत जन आधार है इसको कई बार उनने साबित किया हे।गुटबंदी के कारण कमान सिंधिया के हाथ से चली गई । इसका नुकसान कांगे़स को मिलना तय हैै । ऐसा जनताा का कहना है। हमारी टीम ने सर्वे कर जनमत और युवा पीढ़ी के जो विचार हैं उनको यहां कलम बद्ध किया है।

(करूणेश शर्मा ब्योरो चीफ शिवपुरीी )

बदरीनाथ धाम के कपाट खुले भक्तों की भीड़ उमड़ी.

विश्व प्रसिद्ध बदरीनाथ धाम के कपाट आज (सोमवार) सुबह श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं। तड़के सवा तीन बजे से मंदिर परिसर में पूजा-अर्चना के साथ कपाट खोलने की प्रक्रिया शुरू हो गयी थी। 

सोमवार तड़के ब्रह्ममुहूर्त में चार बजकर 29 मिनट पर श्री बदरीनाथ मंदिर के कपाट खुलते ही श्री जय बदरी विशाल के जयकारे गूंज उठे। देर रात से ही हजारों श्रद्धालु मंदिर के कपाट खुलने के इंतजार में कतार मे खड़े थे। विधिविधान और मंत्रोच्चार के साथ भगवान बदरीनाथ मंदिर के कपाट खुलने पर श्रद्धालुओं ने हर्षोल्लास के साथ जयकारे लगाए। इस दौरान ब्रह्मकुमारों ने स्वस्ति वाचन किया। मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं की लगभग आधा किलोमीटर लंबी कतार लगी थी। श्रद्धालु मंदिर परिसर में भजन कीर्तन कर रहे हैं।

ग्वालियर कलेक्टर के मार्गदर्शन में केमिस्ट एसोसिएशन ने किया श्रमदान.


आज दिनांक 29,4,2018 को माननीय कलेक्टर श्री राहुल जैन जी एवम दवा निरीक्षक श्री अजय ठाकुर जी के तत्वाधान में शहर का भूजल स्तर बढ़ने के लिए किए जा रहे प्रयासों में नगर निगम प्रशाशन एवं सिचाईं विभाग द्वारा चलाये जारहे तालाब गहरीकरण योजना के अंतर्गत ग्वालियर शहर में वीरपुर बांध पर श्रमदान सहयोग ग्वालियर केमिस्ट एसोसिएशन के पदाधिकारियों द्वारा किया गया
जिसमे प्रमुख रुप से श्रमदान करने वालों में एसोसिएशन सचिव महेंद्र गुप्ता मीडिया प्रभारी शिवरतन सिंघवानी ,पवन अग्रवाल,पवन,गुप्ता,डॉ रविदत्त शर्मा एवम पुरुषोत्तम शर्मा आदि ने श्रमदान में सहयोग प्रदान किया
***(पुरुषोत्तम शर्मा *बिट्टु*की कलम से ग्वालियर)

सिंधिया खेमे में मायुसी छाई, उम्मीदों पर कुठाराघात.

कमलनाथ मध्यप़देश के कांग़ेस अध्यक्ष बन गये हैं. लेकिन ग्वालियर अंचल में मायुसी की लहर व्याप्त हो गई है. कारण पिछले लंबे समय से ज्योतिरादित्य सिंधिया जी का नाम हमेशा चर्चओं में रहता था और पिछले कुछ समय से सिंधिया जी भी बड़े जोशो खरोश के साथ सक़िय थे. लेकिन कांग़ेस की यह नीति रही है जो ताकतवर होता दिखा उसे कुचलकर रख देना.
सिंधिया जी भी तो यही खेल खेलते रहे. शिवपुरी इसका ताजा उदाहरण है, जिला अध्यक्ष की कमान पुरानी पीढ़ी को सौंप दी, नई पीढ़ी मन मसोस कर रह गई.
दूसरे शिवपुरी जिले में पिछले कई दशकों से एक ही समुदाय के लोगों को कभी कभी तो एक ही आदमी को सारे पदों पर बिठाते रहे.
शेष समुदाय के लोगों में आक़ोश साफ देखा जा सकता है.
लोगों का कहना है कि हम लोग भी रात दिन मेहनत कर सिंधिया जी को समर्थन देते हैं लेकिन जब फैंसले की घड़ी आती है सिंधिया जी एक ही समुदाय के एक ही परिवार के लोगों को ताज से नवाज देते हैं.
आज दिल्ली में बैठे लोगों ने भी पुरानी पीढ़ी को कमान सौंप दी. हो सकता है यह ईश्वरीय न्याय हो. स्थानीय लोगों की कुंठा का श्राप हो.
वैसे तो कार्यकर्ताओं का यह कहना है कि सिंधिया जी कभी किसी को ताकत नहीं देते हां उनकी ताकत को जरुर सिंधिया जी अपने लिये उपयोग कर लेते हैं.
फिलहाल तो नई पीढ़ी अपने नेता को दिल्ली से समर्थन न मिलने से उदास हो गई है. इसका फायदा तो विपक्ष को मिलेगा ही.
शायद एक बार फिर शिवराज सिंह की किस्मत के सितारे जोर मार रहे.
जहां जोश खत्म वहां. जीत की उम्मीद कोई पार्टी कैसे कर सकती.

लालकिला दालमिया ग़ुप ने गोद लिया, अगला नंबर ताजमहल का.

दिल्ली सरकार की ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ स्कीम के तहत मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा बनाया गया ऐतिहासिक लाल किले को डालमिया ग्रुप ने गोद ले लिया है। देश के इस ऐतिहासिक धरोहर को संवारने की खातिर डालमिया ग्रुप ने 25 करोड़ की डील की है। इस तरह ये ऐतिहासिक स्मारक गोद में लेने वाला भारत का ये पहला कॉर्पोरेट हाउस बन गया है। अंग्रेजी अखबार बिजनेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के अनुसार डालमिया ग्रुप ने ये कॉन्ट्रैक्ट 5 साल के लिए इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर ग्रुप को हराकर जीता है।

लाल किला के बाद ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ के तहत जल्द ही ताजमहल को गोद लेने की प्रक्रिया भी पूरी हो जाएगी। ताजमहल को गोद लेने के लिए जीएमआर स्पोर्ट्स और आईटीसी अंतिम दौर में है। दरअसल, सरकार ने ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ स्कीम सितंबर 2017 में लांच की थी। देश भर के 100 ऐतिहासिक स्मारकों के लिए यह स्कीम लागू की गई है।

अभिनव सक्सेना यू पी एस सी सिविल सर्विस के लिये चयनित.


शिवपुरी / / शिवपुरी निवासी अवधेश सक्सेना एस डी ओ एवं श्रीमती अर्चना सक्सेना व्याख्याता के पुत्र अभिनव सक्सेना ने यू पी एस सी की सिविल सर्विस परीक्षा 2017 के घोषित परीक्षा परिणाम में 522 रेंक प्राप्त कर सफलता अर्जित करके अखिल भारतीय स्तर की 1058 पोस्ट के लिए आयोजित इस परीक्षा के माध्यम से केंद्रीय सेवा के लिए अपना स्थान सुनिश्चित कर लिया है ।
अभिनव शुरू से ही मेधावी रहते हुए अपनी शैक्षणिक एवं तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में हमेशा अव्वल रहे हैं । डॉक्टर एम. जी. आर. यूनिवर्सिटी चेन्नई से बी. टेक . कम्प्यूटर साइंस की परीक्षा 96.40% अंकों से उत्तीर्ण करने पर पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर ए. पी.जे. अब्दुल कलाम के हाथों से मैडल, ट्रॉफी और रेंक सर्टिफिकेट प्राप्त किया था । इन्होंने अटल बिहारी बाजपेयी-ट्रिपल आई. टी. एम. ग्वालियर से पब्लिक सर्विस मैनेजमेंट एन्ड ई- गवर्नेंस में एम. बी. ए. की उपाधि 90.8 % अंक प्राप्त कर मेरिट में प्रथम रेंक के साथ उत्तीर्ण कर मैडल प्राप्त किया है । यूथ एलाइंस के चेंज एजेंट एवं जागृति सेवा संस्थान की ओर से जागृति यात्रा में भारत भ्रमण करने वाले अभिनव ने अपनी एच. सी. एल. कम्पनी की सेवा में बेस्ट न्यू इम्प्लॉई का अवार्ड हासिल किया है ।
यू. पी.एस.सी.की प्री परीक्षा में 10 लाख से अधिक उम्मीदवार आवेदन करते हैं जिनमें से 15000 उम्मीदवारों को मुख्य परीक्षा के लिए चुना जाता है , मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले 3000 उम्मीदवारों में से साक्षात्कार के बाद 1058 उम्मीदवारों को अंतिम रूप से चयनित होने का अवसर मिलेगा जिसमे से 990 सफल उम्मीदवारों की चयन सूची आज यू पी एस सी ने जारी की है ।

अभिनव ने अपनी सफलता के लिए ईश्वर की कृपा और अपने माता- पिता और गुरुओं के मार्गदर्शन, आशीर्वाद के साथ सभी परिजनों, शुभेक्षुओं और मित्रों की शुभकामनाओं के प्रतिफल को आधार माना है ।
अभिनव की इस उपलब्धि पर उनके परिवार को शिवपुरी के साथ देश और प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से प्रबुद्ध जनों, प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सम्मानीय पत्रकारगणों, राजनेताओं, अधिकारियों, समाजसेवियों, मित्रों और शुभेक्षुओं ने बधाईयां दीं हैं । सक्सेना परिवार ने सभी का हृदय से आभार और धन्यवाद ज्ञापित किया है ।

चांदपाठा झील के जीर्ण उद्धार केे लिये स्वीकृत 6 करोड़ की राशि का उपयोग कहां और कैसे हो रहा जनता में सुगबुगाहट: शिवपुरी की दूसरी योजनाओं की तरह कहीं गोलमाल तो नहीं,जनता में सुगबुगाहट.



शिवपुरी की चांद पाटा झील में लगातार हो रहे पानी के रिसाव को रोकने के प्रॉजेक्ट एवं जीर्णोधर बाँध के लिए 6 करोड़ की राशि स्वीकृत की थी। चार दिन पहले सांसद सिंधिया जी ने उस कार्य का निरीक्षण किया.
जनता में सुगबुगाहट है कहीं चांद पाठे के जीर्ण उद्धार के लिये स्वीकृत राशि का हश्र भी शहर में संचालित सीवर लाईन और सिंध पेयजल योजना की तरह न हो जाये.
राज्य सरकार को इस योजना पर सतत निगरानी रखनी चाहिये. और जो भी काम हो पारदर्शिता का नियम अपनाना चाहिये.
जो चित्र सिंधिया जी के अवलोकन करते दिख रहे उनमे ऐसी कोई बात दिखाई नहीं दे रही जिससे पता चले की कोई काम हुआ है.
सब कुछ पहले जैसा है. वैसे भी बरसात के मौसम को आने में अब दो महीने बचे हैं और सब जगह पानी ही पानी होगा.
प़शासन को जनता को बताना चाहिये क्या काम हुआ और कौन कर रहा है.
वैसे भी जनता का पैसा गोलमाल करने में शिवपुरी पहला स्थान प़ाप्त कर चुका है.
सीवर लाईन और सिंध से शहर तक पानी लाने वाली योजना का हश्र जनता भुगत रही है.

रावतपुरा धाम पर युवराज भैंसा आकर्षण का केंद़ बना.


रावतपुरा धाम पर संतसमागम और सतसंग लाभ के साथ साथ वहां आये हुये भक्तजनों ने युवराज भैंसे काा भी अवलोकन किया.
इसकी कीमत करीब नौ से दस करोड बताई जा रही है.
इसके शुक़ाणुओं को उच्च नस्ल की दुधारु संतानें पैदा करने
के लिये उपयोग किया जाता है.हरियाणाा से रावतपुरा धाम पर भैंसों की नस्ल सुधार के प़चार प़सार के लिये युवराज को लाया गया था.