सिर से उठा मां-बाप का साया, बेटी हिम्मत कर फिर भी बनी IAS

मोनिका की ज़िंदगी में ‘पहाड़ टूटने सा’ हादसा हुआ. पिता गोपाल सिंह राणा और मां इंदिरा राणा की साल 2012 में सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. परिवार बिखर गया.

उत्तराखंड
IAS success story: आज की सक्सेस स्टोरी में मिलिए उस लड़की से जिसने तमाम परेशानियों के बीच अपनी हिम्मत बनाए रखी और मुकाम हासिल किया. यूपीएससी का सिविल सर्विस एग्जाम पास करने वाली हर हस्ती की अपनी एक प्रेरणादायक दास्तां है. इस दास्तां में आप रूबरू होंगे 577 वीं रैंक हासिल करने वाली देहरादून की डॉक्टर मोनिका राणा से.

मोनिका उत्तराखंड में देहरादून जिले के गांव नाडा लाखामंडल की हैं. मोनिका बचपन से ही पढ़ाई में होनहार थीं. माता-पिता का सपना था बेटी एक दिन प्रशासनिक अधिकारी बनेगी. पिता का सपना था उन्हें अधिकारी बनते देखें. 5वीं तक की शिक्षा दून के स्कॉलर्स होम से ली. छठी से 12वीं तक की पढ़ाई सेंट जोसेफ स्कूल हुई. पर ज़िंदगी ऐसे ही कहां चलने वाली थी. मोनिका की ज़िंदगी में ‘पहाड़ टूटने सा’ हादसा हुआ. पिता गोपाल सिंह राणा और मां इंदिरा राणा की साल 2012 में सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. परिवार बिखर गया. बहन दिव्या राणा ने उनका हौसला बढ़ाया. वे दिल्ली के यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर हैं.

MBBS की पढ़ाई
2015 में मोनिका मद्रास मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई करने लगीं. लेकिन मम्मी पापा को खोने के बाद उनके पास एक ही लक्ष्य था, पढ़ाई कर मां-बाप के हर सपने को पूरा करना. तभी वे यूपीएससी की तैयारी करने लगीं. एग्जाम दिया लेकिन 2015 और 2016 में सफल नहीं हो पाई. वेदांता कोचिंग सेंटर से कोचिंग की. दिल्ली के श्रीराम सेंटर से कोचिंग कर 2017 यूपीएससी एग्जाम में 577वीं रैंक पाकर सफलता प्राप्त की.

मिली 577वीं रैंक

2017 यूपीएससी एग्जाम का रिजल्ट 2018 में आया था जिसमें कुल 990 कैंडीडेट्स पास हुए थे. इन पास हुए कैंडीडेट्स में 750 पुरुष और 240 महिलाएं थी. 577वीं रैंक पाने वाली मोनिका राणा (MONIKA RANA) का रोल नंबर 0044251 था.

कामयाब होने पर सभी ने बधाई दी. लेकिन मोनिका की नज़रें माता-पिता को तलाश रही थीं. जब बेटी ने उनका सपने सच कर दिखाया तो वे उस लम्हे को जीने के लिए थे ही नहीं. बेटी को अफ़सर बन खुद के पैरों पर खड़े होते देखना उनकी किस्मत में नहीं था. मोनिका चाहतीं तो मां-बाप के जाने के बाद हार मानकर अपनी नियति को कोसतीं. लेकिन उन्होंने मेहनत कर यह मुकाम हासिल किया.

मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा

भोपाल/इंदौर.राज्य सरकार ने पेट्रोल-डीजल और शराब पर वैट 5%बढ़ा दिया है।इससे भोपाल में पेट्रोल 2.91 रु. और डीजल 2.86 रु./ लीटर रु. महंगा हो गया है।इंदौर में पेट्रोल 3.26 रु. और डीजल 3.14 रुपए प्रति लीटर महंगा हो गया है। शराब की कीमत भी वर्तमान से 5%ज्यादा होगी। नई दरें शुक्रवार मध्यरात्रि के बाद से ही लागू हो गई हैं।

जुलाई में ही सरकार पेट्रोल-डीजल पर दोरुपए प्रति लीटर स्पेशल ड्यूटी लगा चुकी है।स्पेशल ड्यूटी लगाते समय भी यह अनुमान लगाया गया था कि राज्य सरकार को 800 से 1000 करोड़ रुपए अतिरिक्त मिलेंगे। अब पांच फीसदी वैट बढ़ने के बाद यह आंकड़ा सवा दो हजार करोड़ रुपए से ज्यादा होगा। मुख्यमंत्री कमलनाथ की मंजूरी के बाद शुक्रवार देर शाम इसकी अधिसूचना जारी कीगई। जुलाई के पहले पखवाड़े में केंद्र सरकार ने सेस लगाया तो मप्र सरकार ने भी लगे हाथ दो रुपए स्पेशल ड्यूटी लागू कर दी थी। सवा महीने बाद वैट बढ़ाकर फिर पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि की है।वैट बढ़ाने से सरकार को 6 माह में करीब 1500 करोड़ रुपए मिलने का अनुमान है।

अब ये होगा टैक्स का गणित
पेट्रोल : वैट- 28% से बढ़कर 33%। अतिरिक्त कर व स्पेशल ड्यूटी 3 रुपए 50 पैसे। एक प्रतिशत सेस।
डीजल : वैट- 18% से बढ़कर 23%। स्पेशल ड्यूटी दो रुपए। एक प्रतिशत सेस।
शराब : अभी 5% वैट है जो बढ़कर 10% होगा।

सरकार की दलील : बाढ़ से नुकसान, राजस्व बढ़ाना जरूरीसरकार ने दलील दी कि प्रदेश में बाढ़ से काफी नुकसान हुआ है। प्रभावितों को राहत देने के लिए अतिरिक्त राजस्व जुटाना है। इस वजह से वैट बढ़ाया गया।

पेट्रोल 4.16%, डीजल 4.49% महंगा

भोपाल में डीजल2.86 रुपएमहंगा

पुराने रेटनए रेटअंतरपेट्रोल78.24 रु.81.15 रु.2.91 रु.डीजल69.65 रु.72.51रु.2.86 रु.

इंदौर मेंडीजल3.14 रुपएमहंगा

पुराने रेटनए रेटअंतरपेट्रोल78.40 रु.81.66 रु.3.26रु.डीजल69.82 रु.72.96रु.3.14रु

महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव की तारीखों का चुनाव आयोग ने ऐलान कर दिया.

दिल्ली: महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव की तारीखों का चुनाव आयोग ने ऐलान कर दिया है. महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान होगा और मतगणना 24 अक्टूबर को होगी. नॉमिनेशन भरने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर को होगी और नामांकन वापस लेने की तारीख 7 अक्टूबर को होगी. लोकसभा चुनावों के बाद यह इस साल के पहले राज्य चुनाव हैं. हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवंबर को और महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है. उत्तरी राज्य में 1.82 करोड़ मतदाता और महाराष्ट्र में 8.9 करोड़ मतदाता हैं. 

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, ‘भारतीय राजस्व सेवा के 2 विशेष पर्यवेक्षकों को महाराष्ट्र भेजा जायेगा जिससे चुनावों में प्रत्याशियों के खर्च की जांच की जा सके.’ अरोड़ा ने पूरे देश में 64 सीटों पर उपचुनावों की भी घोषणा की. अरोड़ा ने कहा, ‘मैं इस लोकतांत्रिक व्यवस्था में सभी हितधारकों के सहयोग का अनुरोध करता हूं.’ बीजेपी पहले ही हरियाणा में कई रैलियां कर चुकी है. इस बीच विपक्षी कांग्रेस पार्टी एक बार फिर सत्ता में लौटने के लिये रणनीति बनाती दिख रही है. 

हनीट्रैप / आरोपी मोनिका बोली- अफसर बनने का सपना लेकर भोपाल आई थी, आरती से दोस्ती में सब बर्बाद हो गया

इंदौर .हनीट्रैप गैंग के साथ पकड़ाई बीएससी की छात्रा मोनिका यादव ने पुलिस से पूछताछ में कई बातों का खुलासा किया। उसका गुस्सा सरगना आरती दयाल पर भी फूटा और कहा कि उसका रौब देखकर मैं प्रभावित हो गई और नौकरी के चक्कर में उससे जुड़ गई। उसने कमरे में कब वीडियो बना लिया, पता नहीं चला। उसके कारण जीवन बर्बाद हो गया।

पुलिस से पता चला कि मेरा और इंजीनियर का वीडियो बना लिया था आरती ने
छात्रा के अनुसार आरती मैडम से मेरी दोस्ती 6 महीने पहले फेसबुक पर हुई थी। उनकी प्रोफाइल देखने के बाद मैं उनसे जुड़ गई, क्योंकि मैं भोपाल के एक होस्टल में रहकर पढ़ाई करती हूं। गरीब परिवार से हूं और पिता नरसिंहगढ़ में किसान हैं। मुझे नौकरी की जरूरत थी। इसलिए मैंने आरती मैडम से मदद मांगी।

मैडम ने मुझे भोपाल के एक होटल में निगम इंजीनियर हरभजन सिंह से मिलवाया। फिर इंजीनियर दो-तीन बार और भोपाल आए। वहां मुझसे होटल में मिले। पहले मेरे साथ आरती मैडम कमरे में रहती थी और इंजीनियर के आते ही चली जाती थी। वैसे इंजीनियर से वे इसके बदले में क्या डिमांड करती थी, ये वे ही जाने, लेकिन इंजीनियर ने एक बार मुझे आठ हजार रुपए दिए थे। मैं अफसर बनने का सपना लेकर भोपाल आई थी, पर आरती से दोस्ती में सब बर्बाद हो गया।

उससे दोस्ती कर गलती कर दी। वह लोगों पर काफी रौब बताती थी, जिससे मैं प्रभावित हो गई। वह खुद को सरकारी कॉन्ट्रैक्टर बताकर बड़े लोगों से मिलती। मुझे पहली बार भोपाल की होटल में इंजीनियर से मिलवाया, तो वह बाहर चली गई थी। हमारा वीडियो कब बना लिया, मुझे भी पता नहीं चला। मैंने आज तक वीडियो नहीं देखा है, पुलिस से इसका पता चलने पर मैं भी चौंक गई।

दो-तीन बार हम इंदौर की होटल में भी मिले हैं। चार दिन पहले आरती मैडम मिली तो बोली कि इंदौर चलो, तुम्हारी पक्की नौकरी लगने वाली है। मैंने घरवालों को बोल दिया कि पांच दिन बाद नौकरी की मिठाई लेकर लौटूंगी, लेकिन यहां आते ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरती 50 लाख रुपए लेने के लिए मुझे इंदौर लाई थी।

एटीएस एएसपी ने इंदौर आकर की पूछताछ

गैंग से पूछताछ के लिए एटीएस एएसपी रामजी श्रीवास्तव भी इंदौर आए। उनके साथ क्राइम ब्रांच एएसपी अमरेंद्र सिंह व सीएसपी ज्योति उमठ ने पूछताछ की, पर महिला थाने में क्या-क्या कबूला, ये पुलिस बताने से बच रही है। रात को अफसरों ने मोनिका और आरती से अलग-अलग पूछताछ कर उनके शिकार अफसरों, नेताओं के बारे में जानकारी मांगी। यह भी पता किया जा रहा है कि अब तक ये कितने लोगों के साथ ब्लैकमेलिंग कर चुकी हैं और कितना पैसा कमाया है। पुलिस का ज्यादा जोर निगम इंजीनियर सिंह के मामले में साक्ष्य जुटाने और उन्हें साबित करने का है।

सीआईडी ने शुरू की जांच, दिल्ली भेजेगी रिपोर्ट

एसएसपी के अनुसार महिलाओं का कहना है कि एनजीओ चलाने के दौरान उन्होंने अफसरों, नेताओं से दोस्ती गांठी। संपर्क बढ़ाते-बढ़ाते कुछ अफसरों से निकटता बढ़ती गई। इधर, मामले में सीआईडी ने भी जांच शुरू की है। एक इंस्पेक्टर स्तर के अफसर शुक्रवार को आए और ब्योरा इकट्‌ठा किया। इस मामले की रिपोर्ट दिल्ली भी भेजी जा रही है।

भोपाल की एक श्वेता को पकड़ा तो दूसरी बोली- मैं नहीं जानती इन लोगों को

श्वेता पति स्वप्निल जैन का कहना है कि वह दूसरी श्वेता, बरखा और आरती को जानती ही नहीं है। हालांकि एसएसपी का कहना है कि वे आपस में परिचित हैं, अभी बरगला रही हैं। वहीं, रिवेयरा टाउन में विधायक बृजेंद्र प्रताप सिंह के बंगले से पकड़ी गई श्वेता जैन की नजदीक में रहने वाली पूर्व मंत्री की नजदीकी रिश्तेदार से अच्छी दोस्ती थी। श्वेता और उस रिश्तेदार का एक-दूसरे के यहां काफी आना जाना है। पूर्व मंत्री का भी यहां पर आना-जाना रहा। पुलिस ने रिवेरा में दबिश दी तो वो रिश्तेदार भी गायब हो गई।

बहाना : बरखा की बीमारी का हवाला देकर कोर्ट में दी जमानत की अर्जी

शुक्रवार को पुलिस ने आरोपी श्वेता पति विजय जैन, श्वेता पति स्वप्निल जैन और बरखा अमित सोनी को कोर्ट में पेश निगम इंजीनियर से 3 करोड़ की डिमांड करने के मामले में रिमांड देने को कहा, लेकिन इनके वकील ने तर्क दिया कि पुलिस की कहानी काल्पनिक है, इसलिए इन्हें जेल भेजा जाए। बरखा के स्वास्थ्य का हवाला देकर उसकी जमानत का आवेदन भी कोर्ट में लगाया। उस पर सुनवाई सोमवार को होगी। बाद में कोर्ट ने तीनों को जेल भेजने के आदेश दिए।

आरोपी आरती दयाल, छात्रा मोनिका यादव और इनके ड्राइवर ओमप्रकाश 22 सितंबर तक पुलिस की रिमांड पर हैं। पुलिस की पूछताछ और कानूनी कार्रवाई देखकर गुरुवार रात को मोनिका की अचानक तबीयत खराब हो गई। पुलिस ने तत्काल उसे पास के एक निजी अस्पताल पहुंचाया और इलाज करवाया। इसकी जानकारी लीक न हो, इसलिए रात को ही वापस थाने भी ले आए। सुबह उससे सामान्य पूछताछ ही की गई, क्योंकि माना जा रहा है वह सिर्फ निगम इंजीनियर मामले में ही आरोपी है।

गठजोड़ : पार्टी में पहुंचे थे बुंदेलखंड के एक मंत्री, आईएएस भी हुए थे शामिल

इस मामले में चारों आरोपी महिलाओं और छात्रा ने पुलिस को पूछताछ में कई बातों का खुलासा किया है। इसमें कई बड़े नामों का जिक्र होने से पुलिस अभी कुछ बताने से बच रही है। यह बात भी सामने आई है कि कुछ साल पहले चारों महिलाएं गृहिणी थीं। पैसा कमाने और राजनीतिक क्षेत्र में नाम कमाने की महत्वाकांक्षा में इन्होंने अफसरों और नेताओं को फंसाना शुरू किया। इसमें एनजीओ को माध्यम बनाया और सरकारी विभागों से ठेके दिलवाने शुरू किए। एक ठेका निगम इंजीनियर हरभजन सिंह के माध्यम से लेने की बात भी सामने आई है। पुलिस इसकी जांच कर रही है।

बताया जा रहा है कि ये महिलाएं देर रात की पार्टियों की शौकीन है। इनके मोबाइल में शराब पार्टियों के कई वीडियो भी मिले। अकसर शनिवार रात हाईवे पार्टी के नाम से इनकी पिकनिक होती रही। भोपाल-इंदौर फोरलेन रोड और सीहोर बायपास के रिसोर्ट, होटल, फॉर्म हाउस में इन पार्टियों में आईएएस-आईपीएस अफसर को भी बुलाया जाता था। पिछले दिनों बुंदेलखंड के एक मंत्री हाईवे पार्टी में पहुंचे थे, जिसकी पोस्ट फेसबुक पर डाली थी। इस पोस्ट को मंत्री ने पता चलते ही हटवाया। इस पार्टी में दोनों श्वेता जैन थी। इसके अलावा कुछ आईएएस शामिल थे। पार्टी में वीआईपी और पुलिस अफसरों के आने की चर्चा रही है।

भारत को मिला पहला राफेल विमान, एयरफोर्स के डिप्टी चीफ ने भरी उड़ान

भारतीय वायुसेना को पहला राफेल फाइटर जेट फ्रांस ने सौंप दिया है. उप वायुसेना प्रमुख एयर मार्शल वीआर चौधरी ने लगभग एक घंटे तक विमान में उड़ान भरी. भारतीय वायु सेना के सूत्रों के मुताबिक गुरुवार को भारत को फ्रांस ने पहला राफेल विमान सौंपा. इस राफेल विमान का टेल नंबर  RB-01 है, जो भारतीय वायुसेना के अगले चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया के नाम को दर्शाता है.

भदौरिया राफेल फाइटर जेट को उड़ा चुके हैं. वो राफेल फाइटर जेट को उड़ाने वाले भारतीय वायुसेना के पहले पायलट हैं. उनको गुरुवार को ही भारतीय वायुसेना का नया चीफ नियुक्त किया गया है. वो एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ की जगह लेंगे. धनोआ 30 सितंबर को चीफ ऑफ एयर स्टाफ के पद से रिटायर हो रहे हैं.

एयर मार्शल भदौरिया 26 तरह के फाइटर और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट उड़ाने में पारंगत हैं. उनको 4250 घंटे तक फाइटर विमान और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट उड़ाने का अनुभव है. उनको परम विशिष्ट सेवा मेडल (PVSM), अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM), वायु सेवा मेडल (VM) और एडीसी से भी सम्मानित किया जा चुका है.

आपको बता दें कि पिछले कुछ वर्षों में राफेल विमान को खरीदने का करार सबसे चर्चित और विवादित सौदों में से एक रहा है. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर इस डील में घोटाला करने का आरोप लगाया गया था

राहुल गांधी अपनी रैलियों में इस सौदे का हवाला देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था. इसको लेकर राहुल गांधी ने पीएम मोदी को चोर तक बता डाला था. हालांकि कांग्रेस को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था.

भारत में राफेल को लेकर तैयारियां भी की जा रही हैं. वायुसेना अपनी ‘गोल्डन ऐरोज’ 17 स्क्वाड्रन को फिर शुरू करने की तैयारी में है. यह राफेल लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली इकाई होगी.

प़धानमंत्री अमेरिका दौरे पर रवाना हुये

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) अमेरिका (America) दौरे पर रवाना हो गए हैं. एक हफ्ते के उनके अमेरिका दौर में सबसे ज्यादा चर्चा Howdy Modi प्रोग्राम की हो रही है. टेक्सास के शहर ह्यूस्टन में होने वाले इस कार्यक्रम की चर्चा पूरी दुनिया में है. हाउडी मोदी प्रोग्राम में पीएम मोदी अमेरिका में रहने वाले 50 हजार भारतीयों को संबोधित करेंगे.

अमेरिका में ये प्रधानमंत्री मोदी का अब तक का सबसे बड़ा प्रोग्राम है. पूरी दुनिया में मोदी के इस प्रोग्राम के पहले ही हलचल बढ़ गई है. देश से लेकर विदेशों तक में Howdy Modi प्रोग्राम को लेकर चर्चा है.

Howdy Modi प्रोग्राम की बौखलाहट में पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री मोदी के विमान के लिए अपना एयरस्पेस देने के मना कर दिया था. प्रधानमंत्री मोदी को इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका रवाना होने के लिए पाकिस्तान के एयरस्पेस का इस्तेमाल करना था. लेकिन पाकिस्तान ने उनके विमान के लिए अपना एयरस्पेस देने से मना कर दिया.

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के Howdy Modi प्रोग्राम पर तंज कसा था. ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी के इस प्रोग्राम का मजाक बनाते हुए राहुल गांधी ने लिखा- Howdy economy doin, Mr. MOdi? यानी देश की अर्थव्यवस्था की हालत क्या है, मिस्टर मोदी?

क्या है Howdy Modi प्रोग्राम?

22 सितंबर को अमेरिका के ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री मोदी का सबसे बड़ा कार्यक्रम रखा गया है. इसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी उनके साथ होंगे. इस प्रोग्राम में अमेरिका में रहने वाले करीब 50 हजार भारतीय हिस्सा ले रहे हैं. हाउडी मोदी अमेरिका में पोप के बाद किसी विदेशी नेता का सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा.

इस प्रोग्राम को लेकर लोगों में इतनी उत्सुकता है कि 50 हजार की दर्शकसंख्या पहले से ही बुक हो चुकी है. बताया जा रहा है कि 10 हजार की वेटिंग लिस्ट चल रही है.

साल 2019 का ये सबसे बड़ा कार्यक्रम होगा. अमेरिकी भारतीयों के लिए इस कार्यक्रम का आयोजन टेक्सास इंडिया फोरम कर रहा है. व्हाइट हाउस ने इस प्रोग्राम में डोनाल्ड ट्रंप के भी शामिल होने की जानकारी दी है. ये अमेरिका और भारत की दोस्ती के लिहाज से ऐतिहासिक मौका होने वाला है.

ये पहला मौका होगा जब पीएम मोदी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका में किसी एक जगह पर मौजूद इतनी बड़ी संख्या में भारतीयों को संबोधित करेंगे. ट्रंप के अलावा इस प्रोग्राम में यूएस कांग्रेस के सदस्य, गवर्नर्स का एक डेलिगेशन और कई मेयर्स भी हिस्सा लेंगे.

कहां और किस वक्त होगा प्रोग्राम?

22 सितंबर को अमेरिका के टेक्सास राज्य में ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में हाउडी मोदी प्रोग्राम होगा. अमेरिका के स्थानीय टाइम के मुताबिक सुबह 10 बजे कार्यक्रम की शुरुआत होगी, जो दोपहर 1 बजे तक चलेगा. व्हाइट हाउस ने बताया है कि मोदी और ट्रंप का जॉइंट स्टेटमेंट दोनों देशों के रिश्ते मजूबत करेगा. ये वाशिंगटन और नई दिल्ली के बीच उर्जा और व्यापार के क्षेत्र में ऐतिहासिक कदम साबित होने वाला है. अमेरिका में भारतीय राजदूत हर्ष वर्धन ने कहा है कि ट्रंप के शामिल होने की वजह से ये प्रोग्राम ऐतिहासिक होगा.

Howdy Modi का मतलब क्या है?

Howdy शब्द How do you do यानी आप कैसे हैं, का छोटा रूप है. अमेरिका के दक्षिणी राज्यों में इस शब्द को आम बोलचाल की भाषा में इस्तेमाल करते हैं. इस तरह Howdy Modi का मतलब है How do yo do Modi यानी आप कैसे हैं मोदीजी? आयोजनकर्ताओं का कहना है कि हाउडी मोदी में करीब 1 हजार वोलंटियर और टेक्सास के करीब 650 वेलकम पार्टनर प्रोग्राम को कामयाब बनाने के लिए काम करेंगे.

इतना महत्वपूर्ण क्यों है Howdy Modi प्रोग्राम

हाउडी मोदी प्रोग्राम अमेरिका और भारत के रिश्तों के लिहाज से महत्वपूर्ण रहने वाला है. खासकर व्यापार और उर्जा के क्षेत्र में. यहां तेल और गैस कंपनियों की भरमार है. बताया जा रहा है कि भारत में तेल खनन की संभावना को लेकर पीएम मोदी की कुछ बड़ी कंपनियों के साथ बैठक कर सकते हैं.

इस प्रोग्राम में सैकड़ों नामचीन चेहरे और उद्योग जगत की कुछ मशहूर हस्तियां हिस्सा ले रही हैं. अमेरिका में रहने वाले भारतीयों को संबोधित करने वाला पीएम मोदी का ये तीसरा सबसे बड़ा प्रोग्राम है. इसके पहले उन्होंने 2014 में न्यूयॉर्क के मैडिसन स्कॉयर और 2016 में सिलिकॉन वैली में ऐसे ही दो बड़े प्रोग्राम कर चुके हैं.

चिन्मयानंद केस में आये कई दिलचस्प मोड़ छात्रा ने की थी 200 बार मोबाईल पर बातचीत

लॉ छात्रा के सा‍थ रेप के आरोपों का सामना कर रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्‍वामी चिन्‍मयानंद को लंबे इंतजार के बाद शुक्रवार को यूपी पुलिस और एसआईटी ने शाजहांपुर स्थित उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। कोर्ट ने चिन्‍मयानंद को 14 दिनों की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया है। इस कार्रवाई के बाद भी पीड़‍ित छात्रा ने चिन्‍मयानंद पर रेप के आरोप नहीं लगाने पर सवाल उठाए हैं, वहीं एसआईटी की जांच में छात्रा और चिन्‍मयानंद को लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। इससे छात्रा की भी मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। इस पूरे प्रकरण की जांच कर रही एसआईटी की जांच रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि आरोप लगाने वाली छात्रा और चिन्‍मयानंद के बीच जनवरी 2019 से अगस्‍त महीने के बीच 200 बार फोन पर बातचीत हुई है। उधर, इन्‍हीं 8 महीनों के दौरान छात्रा और उसके साथ संजय के बीच 4200 से ज्‍यादा बार फोन पर बात हुई थी। आईजी नवीन अरोड़ा ने बताया कि एसआईटी ने हर जरूरी डिजिटल साक्ष्य, दोनों पक्षों के फोन कॉल डीटेल जुटाए। घटनास्थल, संस्थान, पीड़िता के घर और हॉस्टल से भी साक्ष्य एकत्र किए। गाड़ियों के मूवमेंट, टॉल टैक्स बैरियर, दिल्ली और राजस्थान के होटलों से सीसीटीवी फुटेज, बैंक और एटीएम से रकम निकालने से जुड़े डिजिटल साक्ष्य भी जुटाए गए हैं।

रंगदारी की बात कबूली
एसआईटी के आईजी अरोड़ा ने बताया कि एफएसएल के जरिए दोनों पक्षों की तरफ से दिए गए विडियो की मिरर इमेज तैयार कर उनका विश्लेषण किया गया। तब जाकर एसआईटी ने दोनों पक्षों की तरफ से दर्ज करवाए गए मुकदमों की धाराएं तरमीम कीं। उन्‍होंने बताया कि छात्रा के तीनों साथियों संजय सिंह, सचिन सेंगर उर्फ सोनू और विक्रम ने स्वामी चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने की बात कबूली है। इन तीनों ने वायरल विडियो में खुद के होने की बात भी स्वीकार की है। एसआईटी ने तीनों को अपने पुलिस लाइंस स्थित अस्थायी कार्यालय से गिरफ्तार किया। एसआईटी 23 सितंबर को हाई कोर्ट के समक्ष अपनी रिपोर्ट पेश करेगी।

छात्रा पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार
एसआईटी ने छात्रा पर भी रंगदारी मांगने का आरोप लगाया है। अरोरा ने कहा कि रंगदारी मांगने की आरोपी छात्रा को इसलिए गिरफ्तार नहीं किया गया है कि उसके खिलाफ ‘जांच लंबित’ है। उन्‍होंने कहा, ‘हमने निर्णायक साक्ष्‍य होने की वजह से महिला का नाम इसमें शामिल किया है। अन्‍य आरोपियों के बयान भी यह दर्शाते हैं कि महिला इसमें शामिल थीं। हमारी जांच जारी है। हम इलाहाबाद हाई कोर्ट में 23 सितंबर को स्‍टेटस रिपोर्ट दाखिल करेंगे और उसके बाद अदालत के निर्देशों का इंतजार करेंगे।’

पीड़‍ित छात्रा ने एसआईटी पर उठाए सवाल
चिन्मयानंद के खिलाफ 376 धारा न लगाए जाने पर पीड़िता ने असंतोष जाहिर किया है। पीड़िता का यह भी कहना है कि उसे रंगदारी के केस में फंसाने की साजिश हो रही है। केस कमजोर करने के लिए रंगदारी का विडियो वायरल किया जा रहा है। उसने कहा कि चिन्मयानंद मालिश के लिए बुलाता था और कपड़े उतरवाता था। पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट पर विश्वास जताते हुए कहा है कि वहां मेरे साथ कुछ गलत नहीं होगा।

चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का आरोप नहीं
बता दें कि यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि चिन्‍मयानंद को ‘रेप के मामले’ में अरेस्‍ट किया है, वहीं एसआईटी ने साक्ष्यों और छात्रा के कलमबंद बयान के आधार पर स्वामी को आईपीसी की धारा 376-सी, 354-डी, 342 और 506 के तहत गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा चिन्मयानंद पर गलत तरीके से प्रतिबंधित करने (आईपीसी-342) और धमकाने (आईपीसी-506) की धाराओं में भी केस दर्ज है।

धारा 354-डी और सजा
इस धारा में किसी लड़की या महिला का पीछा करने जैसी वारदात शामिल हैं, जिसमें पहली बार अगर व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो उसको तीन साल तक की सजा और जुर्माना हो सकता है। अगर वह व्यक्ति दूसरी बार इस तरह की वारदात में दोषी पाया जाता है तो उसे पांच साल तक की कैद और जुर्माना भी हो सकता है।

धारा-376 (सी)
जब कोई अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, जेल, रिमांड होम, हिरासत के किसी अन्य स्थान, स्त्रियों या बच्चों की संस्था का अधीक्षक या प्रबंधक या अस्पताल का कर्मचारी होते हुए, ऐसी किसी स्त्री, जो उसकी हिरासत में है या उसके अधीन है या परिसर में उपस्थित है, को अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए उत्प्रेरित करने लिए अपनी शक्ति का दुरुपयोग करता है, तो उस व्यक्ति को पांच या 10 साल की जेल हो सकती है।

चिन्‍मयानंद ने खाई जेल की रोटी
स्वामी चिन्मयानंद को शाहजहांपुर जिला जेल की सुरक्षित बैरक में रखा गया है। जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि दरोगा राजकुमार सुबह 11 बजकर 35 मिनट पर स्वामी चिन्मयानंद को लेकर आए थे। जबकि संजय समेत तीन आरोपितों को दो बजकर 55 मिनट पर जेल में दाखिल किया गया है। राकेश ने बताया कि स्वामी ने सभी कैदियों की तरह दोपहर के भोजन में दाल, सब्जी और रोटी खाई। फिलहाल उन्हें सुरक्षित बैरक में रखा गया है।

आनलाईन लेनदेन पर गड़बड़ी होने पर रिजर्व बैंक ने किया 100 रुपये प़तिदिन पेनल्टी लगाने का ऐलान.

माना जा रहा है कि इस कदम का फायदा यूपीआई, ई वॉलेट, एटीएम ट्रांजेक्शन, आईएमपीएस ट्रांसफर और दूसरे पेमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले विभिन्न ग्राहकों को मिलेगा।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने शुक्रवार को ऑनलाइन ट्रांजेक्शंस के दौरान ग्राहकों को होने वाली समस्याओं के निवारण के लिए एक टाइमफ्रेम और मुआवजे के सिस्टम का ऐलान किया। ऐसा देखने में आया है कि कई बार ग्राहक जब ऑनलाइन पेमेंट या फंड ट्रांसफर आदि करता है तो रकम उसके खाते से कट जाती है लेकिन वह राशि प्राप्तकर्ता के खाते में नहीं जुड़ती। अब लेटेस्ट गाइडलाइंस के मुताबिक, अगर कटा हुआ पैसा तयशुदा वक्त में संबंधित खाते में क्रेडिट नहीं होता है तो बैंक 100 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से पेनल्टी चुकाएंगे।

माना जा रहा है कि इस कदम का फायदा यूपीआई, ई वॉलेट, एटीएम ट्रांजेक्शन, आईएमपीएस ट्रांसफर और दूसरे पेमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करने वाले विभिन्न ग्राहकों को मिलेगा। आरबीआई की ओर से एक नोटिफिकेशन जारी करके नाकाम हुए बैंक ट्रांजेक्शंस के निस्तारण के लिए टाइमलाइन और संबंधित मुआवजे का ऐलान किया गया। आरबीआई का कहना है कि इससे ग्राहकों का भरोसा बढ़ेगा।
उदाहरण के तौर पर अगर एटीएम से लेनदेन के वक्त अगर ग्राहक के खाते से पैसे कट जाते हैं और पैसे मशीन से नहीं निकलते तो बैंक को पांच दिन के अंदर यह रकम वापस करनी होगी। अगर बैंक ऐसा करने में नाकाम रहता है तो उसे ग्राहक को 100 रुपये प्रति दिन के हिसाब से पेनल्टी चुकानी होगी.

अगर आईएमपीएस ट्रांजेक्शन के वक्त रकम भेजने वाले के खाते से डेबिट हो जाती है लेकिन भेजे जाने वाले शख्स को प्राप्त नहीं होती तो रकम पाने वाले शख्स के बैंक के पास पैसे ऑटो रिवर्स करने के लिए 1 अतिरिक्त दिन होगा। ऐसा न करने पर उसे 100 रुपये प्रति दिन के हिसाब से पेनल्टी रकम पाने वाले शख्स को देनी होगी। वहीं, अगर रकम भेजने वाले शख्स के बैंक की ओर से तयशुदा वक्त से ज्यादा देरी होती है तो पेनल्टी रकम भेजने वाले ग्राहक को मिलेगी।

यही नियम यूपीआई यानी यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेज ट्रांसफर पर भी लागू होगा। वहीं, अगर किसी मर्चेंट को पेमेंट करते वक्त लेनदेन का कन्फर्मेशन नहीं मिलता है तो बैंक के पास इस मामले का निस्तारण करने के लिए 5 दिन का वक्त होगा। विभिन्न तरह के असफल लेनदेन के लिए आरबीआई की तय किए गए।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राज्यसभा सांसद प्रभात झा की माताजी का निधन

ग्वालियर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राज्यसभा सांसद प्रभात झा की माताजी श्रीमती लालमुखी देवी झा का आज अचानक निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहीं थी। स्व. श्रीमती लालमुखी देवी झा का अंतिम संस्कार बिहार के सीतामढी जिले के कुरियाई गांव में हुआ अंतिम संस्कार